..क्यूंकि दुनिया में अच्छे लोग भी हैं



कुछ दिन पहले एक मित्र ने मुझे एक ई-मेल फॉरवर्ड किया था…कुछ इस नाम से ई-मेल था..”तस्वीरें जो इंसानियत पर आपका विश्वास और पक्का कर देगी”.मुझे वो ईमेल बहुत पसंद आया था, तो सोचा क्यों न इसे ब्लॉग में भी आप सब के साथ साझा किया जाए..देखिये, आपका भी मन थोड़ा अच्छा हो जाएगा – 

जापान के कुछ वरिष्ठ नागरिकों की कहानी जिन्होंने फुकूशीमा नूक्लीअर क्राइसिस को रोकने के लिए खुद को वालंटियर किया  : 

नोर्वे के दो बहादुर लड़के जिन्होंने एक मेमना को समुद्र में डूबने से बचाया 

एक बुकस्टोर के बाहर लगा ये बोर्ड




जब ओहायो शहर की एक ऐथ्लीट अपने एक घायल प्रतिद्वन्द्वी के मदद के लिए रुक गयी थी.

एक तीन साल की बच्ची और एक शोपिंग सेंटर के बीच हुई ये लेन-देन

एक वृद्ध महिला ने एक होटल के वेटर को टिप दिया इस नोट के साथ 




एक “सबवे” रेस्टोरेन्ट के बाहर लगा ये साईनबोर्ड : 




कटक, ओरिसा के एक व्यक्ति की तस्वीर जो फंसे हुए बिल्ली के बच्चे को बाढ़ के पानी से बचा कर दुसरे सुरक्षित स्थान पर ले जा रहा है




एक ड्राईक्लीनर दूकान के बाहर लगा ये बोर्ड.:
पोलैंड के प्लाजा ड्राईक्लीनर ने करीब २००० वैसे लोगों की मदद की है जो ड्राईक्लीन अफोर्ड नहीं कर सकते थे.इसमें प्लाजा ड्राईक्लीनर को $32,000 का खर्च सहना पड़ा था.

एक फाइर्फाइटर की तस्वीर जिसने एक बिल्ली को आग से बचाया

और ये भी :

ग्वाटेमाला की एक स्थानीय लड़की और एक टूरिस्ट की ये प्यारी तस्वीर: 

दो बच्चे जिन्होंने मिलकर एक कुत्ते को नाले से बाहर निकाला : 

एक परिवार को दिया गया यह बिल :

ब्राज़ील में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान एक विरोधकर्ता और एक जेनरल के बीच का हुई ये बातचीत : 

उफनती नदी में एक आदमी ने कूद कर किसी अनजान के Shih Tzu(कुत्ते का एक  नस्ल) को बचाया था.
[मेलबोर्न में एक शाम शु-ड्रमंड अपने प्यारे बिबी(Shih Tzu) के साथ घूम रही थी की तभी एक तूफ़ान के आने से ‘बिबी’ नदी में जाकर गिर गया.पास ही खड़े रादेन सोएविनाता जो अपनी दादी के अस्थियों को विशर्जित करने आये थे वो बिना देरी किये झट से नदी में कूद गए और ‘बिबी’ को बचा लाये.]



और दो दोस्तों की ये तस्वीर

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल – सोमवार- 26/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः6 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर …. Darshan jangra

  2. बहुत उत्साह भरने वाली पोस्ट, दुनिया अच्छे लोगो की वजह से ही चल रही है .

Leave a Reply to Neeraj Kumar Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें