दीवाल पे टंगे चंद लम्हे

आजकल दिल्ली में हूँ और कुछ काम के सिलसिले में काफी भाग-दौड करना पड़ रहा है.अगले हफ्ते वापस बैंगलोर भी जाना है और फिर कुछ सालों के लिए परमानेंटली दिल्ली आ जाना है.दिल्ली में तो सर्दी भी काफी है.यहाँ के सर्द मौसम से मुझे प्यार सा भी हो गया है, ये अलग बात है की मैं इसका भरपूर मजा नहीं ले पा रहा हूँ.समय कम मिल पता है और थोड़ी परेशानियाँ भी हैं .सर्दी में तो वैसे भी रजाई से निकलने का दिल नहीं करता.मैं तो शाम जब घर आता हूँ तब से ही रजाई में घुसा रहता हूँ…ग़ज़लें सुन रहा हूँ..खूब सारी…ठण्ड में ग़ज़लें सुनना एक बेहतरीन अनुभव है..बहुत सुख मिलता है..बहुत कुछ पढ़ भी रहा हूँ.इन सब के बीच इन्टरनेट पर कम लोगिन करता हूँ.ना ही पोस्ट लिखना हो रहा है और नाही पोस्ट पढ़ पा रहा हूँ…लेकिन आजकल जब भी लोगिन कर रहा हूँ तो कुछ न कुछ अजीब हो रहा है.अब कल की बात है, युहीं फेसबुक टाईमलाइन से कुछ छेड़छाड कर रहा था तो देखा की पिछले कुछ सालों के लम्हे जो स्टेट्स,वाल पोस्ट या फिर तस्वीरों के रूप में थे, फेसबुक दीवाल पे टंगे हुए मिले..फिर जो एक एक कर के उन्हें चुनना शुरू किया तो पता भी नहीं चला की कैसे रात के एक बज गए…सोचा की सभी पिछले स्टेट्स अपडेट को एक पोस्ट में सहेज के रख लूँ…कुछ चुनिन्दा फेसबुक स्टेट्स, जो ठीक वैसे ही यहाँ चिपकाए जा रहे हैं जैसे की वो थे…बिना कोई एडिटिंग के.

मेरी एक दोस्त के द्वारा लगाये गए इस फेसबुक वाल-फोटो पर
करीब 500 कमेन्ट आये थे…तीन चार दोस्तों ने अपने फेसबुक अकाउंट डिलीट
कर दिए, इसलिए अभी बस 300 के आसपास ही कमेन्ट दिख रहा है… 

29th December 2009
सुबह सुबह का एक सपना…….बड़ा अच्छा लगा उस सपने के साथ जगना मुझे आज…….सुना है की सुबह के सपने सच होते हैं….पता नहीं ये सच है या बस एक मान्यता…लेकिन मैं चाहूँगा की मेरा वो सपना सच हो…:) 


6th December 2009
मैं यहाँ फिर हवा से बातें कर रहा हूँ…तुम सुन रही हो न…हैप्पी बर्थडे डिअर…


6th December 2009
तुम होती तो कैसा होता…  तुम ये कहती, तुम वो कहती  तुम इस बात पे हैरान होती,  तुम उस बात पे कितनी हँसती  तुम होती तो ऐसा होता,  तुम होती तो वैसा होता… 

8th December 2009
i m fade up of this facebook status update..kuch status se kisi ko takleef pahuchegi and kuch status se kisi aur ko…and m fade up of fake status of mine which includes writing shayaris when i have nothing to share… so sorry but no more update from my side from now on…..my routine hasnt changed in 2 yrs….same old story is there..so if..if anything new happens, i’ll let u know ..


17th November 2009
getting into winter mood…reshuffled my audio collcetion on laptop for winters 🙂 remmebring winter of 1998-2001 🙂 


2nd November 2009wapas bangalore aa to gaya hun lekin pichle mahine ke bitaaye din bhulaye nahi bhulte aur ek khaas se wo mulakat…wow so many good memories..I am still in hangover mode


5th October 2009 

पूछते हैं की क्या हुआ दिल को…हुस्न वालों की सादगी न गई …….


5th October 2009 
8 ghante se bhi kam time mein 99 fb notification updates 😀 😀


1st October 2009
Gulzar Gulzar Gulzar…Sir you are super awesome….let me quote one of your nazmas : 
“kab aate ho kab jaate ho….din men kitni baar to tum mujhe yaad aate ho”

29th September 2009 
well the visual studio is so much fun and creative thing especially i’m working on visual studio after jan 2007…but the new concepts are so much complex 

22nd September 2009
asp.net is the word on my mind since last 1-2 months 😀 i’ll kickstart the main design of a sample page tonight 😀

18th September 2009
thanks to someone for calling me yesterday 🙂 abhi tak unhi baaton ke kaid mein hun 😀 😀

15th September 2009
koshish is a such a beautiful movie….seen it today after many years…..no otther actor can match the simplicity n intensity of sanjeev kumar…A beautiful movie directed by none other than gulzar is definately a epic movie  🙂

2nd September 2009
2 shaitaan bahen …. nimisha aur mona are making me to play antakshri on chat 😮 so weird n fun 😀 i liked the idea 😀 dono ne aaj hadd paresan kiya mujhe 😛

08th June 2009

जाड़ों की नर्म धूप और आँगन में लेट कर…आँखों पे खींचकर तेरे आँचल के साए को
औंधे पड़े रहे कभी करवट लिये हुए…..दिल ढूँढता है फिर वही फ़ुरसत के रात दिन..

15th May 2009
some new things on mind…stressful but hopeful..

14th Feburary 2009
मेरे कुछ जज़्बात हैं दबे हुए से… आज वो तुमसे कह दूँ अगर इजाजत हो तो…. आज है दिन मोहब्बत का..आज न चुप रहा जायेगा… दिल की सारी बातें जुबान पे आ जाएगी…. आज है दिन मोहब्बत का, आज न चुप रहा जायेगा..

11th Feburary 2009

is remembring summer of ’98 n ’99 😉


18th December 2008
WOW december is really the month of Love….SUN RAHI HO NAAAAAAA????


6th December 2008

मेरे पास जमा भीड़ को देख बदगुमान न होना..मैं आज भी तनहा हूँ…मैं हूँ, और बस तेरी यादें हैं..



6th December 2008
I love this day…Sochta hun agar tum nahi rahti meri zindagi mein to mere liye is din ki koi importance nahi rahti aur naahi bahut si aur baaton ki…..thank u for being there in my life..never ever leave me..


29th August 2008 
now happy moment comes once or twice a week in my life now..rest of the day are pathetic..and i’m used to it now 🙂 ye kahani august 2007 se lagatar chal rahi hai 😛 all my happiness ended with my engg degree, but its ok 🙂 jyada khusi bhi aani nahi chahiye….isnt it 😛


11th July 2008 
what d hell!!!!!!!!!!!!!!!!!how can god be so cruel at me…maine kya bigada hai uska????mba final examz again screwed…dusra paper hai row mein jo main nahi dene jaa paya…god knows baaki ke exam de paunga ya nahi….future seems totally dark….m frustated 

पहले मेरे ब्लॉग का नाम हुआ करता था My Space…My Blog..
 Jan-2010 में ब्लॉग का नाम ‘मेरी-बातें मैंने रखा था.
29th June 2008 
तुम मुझे रूह में ही बसा लो फ़राज़… दिल-ओ-जान के रिश्ते अक्सर टूट जाया करते हैं….!

21st June 2008 
मिटटी का तन, मस्ती का मन, झंन्भर जीवन..मेरा परिचय… – स्वर्गीय हरिवशराय बच्चन


29th Feburary 2008 
gulzar is a genius…truly…watched izaazat again @home…..he is a magician…wo kehtay hain ki “aadaten bhi ajeeb hoti hain…
Saans Lena bhi kaisi aadat hai
jiye jana bhi kya rawayat hai…”


30th January 2008 
Akram ke saath ek yaadgar safar…jo hamesha ke liye memory mein saved ho gayi..


 23rd january 2008 
going home…with akram…he has been my support for last 4 years aur uske saath har train journey memorable hota hai

11th January 2008
relaxxed smwat after a terrible week…but my mba is screwed…totally

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. तुम दिल्ली गलत आये … बरेली का नाम सुने हो ??? वैसे पहले आगरा भी काफी मशहूर हुआ करता था … वैसे एक ग्वालियर में भी है !

  2. दिखाई दे रही है….तुम्हारी दिल्ली की व्यस्तता…बड़ी मेहनत वाला काम कर डाला…पर बहुत रोचक है…

    कई अपडेट्स का तो बैकग्राउंड भी समझ में आ रहा है 🙂

  3. dekha maine kaha tha na dilli dil walon ka shahar hai fir chaahe mosmi ho ya wahan ke log aapko ki dilli raas aahi gai…..;-)jaise mosum se pyar hua hai waise hee wahan ke logonse bhi bahut jald ho jaayegaa ….

  4. दिवार पे टंगे लम्हें चन्द लम्हें नही अब तक पी पूरी ज़िन्दगी की तस्वीर लिये रहते हैं। तुम व्यस्त हो? फिर इतने ब्लाग्ज़ कैसे चला रहे हो?ाशीर्वाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें