Home 2012 January

Monthly Archives: January 2012

रसिया व् स्पोमिन्नानियाख – स्मृतियों में रूस

'स्मृतियों में रूस' को लेकर मैं बहुत पहले से काफी उत्साहित था.शायद आजतक मैं किसी भी किताब को लेकर इतना उत्साहित कभी नहीं रहा.इसकी...

ऋचा वेड्स अंशुमान : कुछ यादें

कभी कभी पता भी नहीं चलता की समय कैसे पंख लगा कर उड़ जाता है.अभी तो जैसे कल की ही बात थी की मेरी...

दीवाल पे टंगे चंद लम्हे

आजकल दिल्ली में हूँ और कुछ काम के सिलसिले में काफी भाग-दौड करना पड़ रहा है.अगले हफ्ते वापस बैंगलोर भी जाना है और फिर...

अलविदा बैंगलोर!

बैंगलोर डायरी : १ जब ये पोस्ट यहाँ स्केचुल पब्लिश्ड होगी, तब मैं अपना ये शहर छोड़ एक दूसरे शहर में पहुँच चूका हूँगा या...

एक रात जो बहुत दिनों बाद आई (२)

कभी कभी सुख के पल उस वक्त आ धमकते हैं जब आप उसकी उम्मीद बिलकुल भी नहीं कर रहे होते हैं.पिछले कुछ दिनों से...