वो सुबह कभी तो आएगी!

एक अच्छी सुबह की पहचान उसकी ताजगी से होती है.वैसी सुबह जब दिल-दिमाग पूरी तरह तनावमुक्त हो और सारी चिंताएं,थकान सुबह की ठंडी हवा के साथ गायब हो जाएँ.पहले जब पटना में रहता था तब यहाँ की लगभग हर सुबह ऐसी ही होती थी.उसकी वजह भी थी.हम अपने छोटे से क्वार्टर में रहते थे जहाँ सुबह सुबह की ठंडी हवा और सूरज की पहली किरण हमें अंदर तक तरो-ताजा कर जाती थी.एक छोटा सा बगीचा था जिसमे बेली और गुलाब के बड़े अच्छे फुल उगते थे.नियमित रूप से हर सुबह सारे पौधे में पानी देना होता था और गीली मिटटी की सौंधी खुसबू सुबह का एक अलग एहसास दे जाती थी.स्कूल या कोचिंग जाना भी हर रोज सुबह सुबह ही होता था.साइकिल भी मस्त होकर चलाते थे हर सुबह.कभी पापा हमें मोर्निंग वाक पे बोटनिकल गार्डेन ले जाते थे,उसमे भी एक अलग मस्ती थी.अपने बेहद अच्छे दोस्त(टू-इन-वन) में हर सुबह मुकेश के गाने सुनना भी एक आदत बन चुकी थी.कूल मिलाकर सुबह बेहद खूबसूरत होती थी.

सात साल हो गए उस पुराने क्वार्टर को छोड़ हम अपने नए और बड़े फ़्लैट में शिफ्ट हो गए.मैं पटना से बाहर रहने लगा और उस खूबसूरत सुबह से भी हमेशा के लिए बिछड़ना पड़ा.इन सालों में जब भी पटना आना हुआ तो बेहद कम दिनों के लिए.इतना समय नहीं मिलता की सुबह का आनंद अच्छे से ले पाता.बड़े लंबे अरसे के बाद इस बार ज्यादा दिनों के लिए पटना में रुका हुआ हूँ.बैंगलोर में जो सुबह के सैर की आदत लगी वो यहाँ भी कायम है.पटना की सुबह में लेकिन अब वो बात बिलकुल नहीं है.सुबह की हवा में ताजगी से ज्यादा प्रदुषण और  गाड़ियों से निकलता धुंआ भरा होता है.कभी कभी तो सैर के बावजूद सर भारी सा लगता है..मन भी हल्का नहीं हो पाता.रात की थकान सुबह की चाय के बाद भी पूरी तरह निकल नहीं पाती.ऐसे में कल की और आज की सुबह बेहद अलग थी.आज मौसम की पहली सर्द सुबह थी.कोहरा भी छाया हुआ था.बड़ा खुशनुमा मौसम था.घर से बाहर निकलते ही कोहरे और ठण्ड की वैसी ही खुशबू और ताजगी महसूस हुई जो उन दिनों की फिजाओं में होती थी.

कल की सुबह भी आज के सुबह सी ही अच्छी थी लेकिन थोड़ी अलग.कल सुबह सैर पे जाने के बजाय मैंने अपने छत पे जाने का निश्चय किया.पास में कैमरा भी रख लिया था.कैमरा रखने का उद्देश्य दूसरा था.मैंने सोचा था की घर के पास ही बने नए पार्क की कुछ तस्वीरें लूँगा.लेकिन निकला तो छत के तरफ का रुख कर लिया.छत पे टहलते हुए एक कागज़ पे कुछ लिखा था, जो मुख्यतः खुद के लिए था.उस नोट के कुछ टुकड़े यहाँ दे रहा हूँ :

“बड़े दिनों बाद आया हूँ आज इस छत पे.यह छत मेरे लिए बहुत सी पुरानी स्मृतियों को ले आता है.यहाँ से मुझे दीखता है रोड नम्बर पांच की वो तस्वीर जहाँ एक कोने में शिवशंकर सर का कोचिंग था और उसके पीछे उनका घर.उनके भतीजे और भतीजी(गुड्डू भैया और गुडिया दीदी) के साथ बिताए हुए वो अनमोल पल याद आते हैं.हर शनिवार के शाम सर के तरफ से कोचिंग में एक छोटी पार्टी होती थी और सर हमें मुकेश के कुछ गानों को गाकर सुनाते थे.जब छत से रोड नंबर पांच की तरफ देखता हूँ या फिर जब कभी उधर से गुजरता हूँ तो अक्सर सोचता हूँ उन छोटे बच्चे और बच्चियां के बारे में जो कोचिंग के आसपास खेलते रहते थे और जिनसे मेरी दोस्ती भी थी.वो सारे बच्चे अब बड़े हो गए होंगे और संभवतः कहीं पढाई कर रहे होंगे.मैं उन्हें पहचान नहीं पाऊंगा, लेकिन अगर वो मुझे देखें तो क्या वो पहचान सकेंगे?”


“हलकी ठण्ड है और सुबह की वही खुशबू जो तब हुआ करती थी जब मैं गांधी मैदान जाया करता था, हर रविवार कोचिंग क्लास के लिए.जाड़े की सुबह गांधी मैदान का नज़ारा देखते ही बनता था.दूर दूर तक कोहरा और धुंध.स्कूटर चलाते वक्त हाथ बिलकुल बर्फ हो जाता था, फिर भी फुल स्पीड कायम रहती थी.पता नहीं गांधी मैदान आते ही मेरे स्कूटर को क्या हो जाता था, की वो हमेशा पंचर हो जाया करता था.अगर मैं याद करूँ तो महीने में अगर चार दफे गांधी मैदान आता था तो उसमे तीन दफे स्कूटर का पंचर होना तय रहता था.यहाँ तक की अप्सरा सिनेमा के पास वाला स्कूटर मेकैनिक भी मुझे पहचान गया था.”


” परवीन शाकिर” की एक कविता जो मैंने कुछ महीनो पहले उनकी एक किताब ‘रहमतों की बारिश’ में पढ़ा था, वो कविता बार बार याद आ रही है..” – 

सुबह ए विसाल की पौ फटती है
चारों ओर 
मदमाती भोर की नीली हुई ठंडक फैल रही है 
शगुन का पहला परिंदा 
मुंडेर पर आकर 
अभी-अभी बैठा है 
सब्ज़ किवाड़ों के पीछे एक सुर्ख़ कली मुस्काई 
पाज़ेबों की गूंज फज़ा में लहराई 
कच्चे रंगों की साड़ी में
गीले बाल छुपाए गोरी 
घर सा सारा बाजरा आँगन में ले आई

अब सुबह की कुछ तस्वीरें जो मैंने अपने कैमरे से ली हैं.तस्वीरों में कोई प्रोफेस्नोलिज्म न खोजिये, मेरे में अच्छी फोटो लेने की ज्यादा समझ नहीं है..तस्वीरें जैसी भी हैं, अच्छी-बुरी…आपके सामने प्रस्तुत है..

 सुबह के साढ़े पांच बज रहे हैं लेकिन चाँद अभी तक आसमान में
अपना अड्डा जमाए हुए है..
सूरज अपने घर से अब निकलने वाला ही है 
काम पे निकलने की तय्यारी में है सूरज
सूरज के दर्शन 
लालिमा 
सुबह की पहली किरण 
सूरज स्टैंडिंग विद द वाल 
शहर का पहरेदार 
पहरेदार 
टॉवर्स 

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. पुराने दिनों की ताज़गी से भरी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी…। फोटो भी बहुत अच्छे हैं…दिल से खींचे गए हैं, साफ़ जाहिर होता है…।
    प्रियंका

  2. bahut he acchi tasveerein hai, waise toh main subah ka zada tar hissa neendh main he guzaarti hu, par haan kabhi jab office main morning shif thote hai toh subah ke nazarien bahut ache lagte hai 🙂

  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

  4. पहरेदार की फोटो बेहतरीन लगी…शुक्रिया…दुनिया छोटी होती जा रही है ..वे बच्चे जरूर पहचान लेंगे..आपको…

  5. bahut hee khubsurti se piroyaa hai aapne saalon baad mahakti hui subha ke ahsaason ko…. photos bhi bahut acche hai aur ek baat kahun mera bhi ghar ka naam gudiyaa hee hai aur mere bade bhai ka guddu 🙂

  6. बेहद सुन्दर तस्वीरें हैं….

    हालांकि ये पढ़ कर
    "पास में कैमरा भी रख लिया था.कैमरा रखने का उद्देश्य दूसरा था"

    मुस्कान आ गयी,चेहरे पर कि बच्चा बड़ा हो गया है….पर तस्वीरें देख कर लगा…ज्यादा ही बड़ा हो गया है..:):)

  7. बेहद सुन्दर तस्वीरें हैं….

    हालांकि ये पढ़ कर
    "पास में कैमरा भी रख लिया था.कैमरा रखने का उद्देश्य दूसरा था"

    मुस्कान आ गयी,चेहरे पर कि बच्चा बड़ा हो गया है….पर तस्वीरें देख कर लगा…ज्यादा ही बड़ा हो गया है..:):)

  8. अलसाई सी सुबह है या ताज़ा सूरज … शायरी और बहकते विचारों के बीच कैद किए ये चित्र …. सोच की दिशा बदलने को काफी हैं …

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें