हैदराबाद की यादें : २

समित बाबू और शेखर बाबू ने हैदराबाद वाली पोस्ट की खूब तारीफें की.दोनों को हैदराबाद में बिताए अपने दिन याद आ गए…दोनों की प्रतिक्रिया एक सी ही थी – “यार तुम्हारा पोस्ट पढ़ते पढ़ते लगा की फिर से हम हैदराबाद पहुँच गए हैं”. .. समित ने कहा की हैदराबाद के ऊपर एक और पोस्ट आनी ही चाहिए, जिसमे कुछ और बातों का जिक्र हो..वैसे तो हैदराबाद की इतनी बातें हैं, इतनी यादें हैं की उसके लिए एक सीरीज शुरू करनी पड़ेगी…सीरीज तो शुरू अभी नहीं कर रहा, लेकिन हैदराबाद के ऊपर ही ये दूसरी पोस्ट लिख रहा हूँ.

पटना के अलावा हैदराबाद एकमात्र ऐसा शहर है जो हमारे दिल से जुड़ा हुआ है.हम दोस्तों को तो बस हैदराबाद के बारे में बात करने का बहाना चाहिए..और फिर शुरू हो जाता है पुरानी यादों का सिलसिला.हैदराबाद में बिताए एक एक दिन की बातें, सड़कों पे युहीं बेमतलब भटकना, हुसैन सागर के पास खड़ा रहना और नेता बाबू(हमारे मित्र तन्मय सौरभ)का कारनामा देखते रहना(अकरम, समित याद है न तुम्हे?😛)…हमें पटना जाने के लिए हैदराबाद से ही ट्रेन पकड़नी होती थी तो इसलिए हम यहाँ जाने के एक दो दिन पहले ही पहुँच जाते थे..मैं जब भी हैदराबाद पहुँचता तो ऐसा लगता जैसे मैं पटना की सड़कों पे घूम रहा हूँ.एक अपनापन सा लगता मुझे हैदराबाद से..शायद इसलिए भी हैदराबाद से ज्यादा मैं जुड़ा हुआ हूँ..हैदराबाद में हम दो ही जगह रुकते थे..या तो सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन के सामने वाले होटलों में या फिर दोस्त मंगलम के घर पे.सिकंदराबाद स्टेशन के सामने तो वैसे बहुत से रेस्टुरेंट और होटल्स हैं लेकिन उनमे से खास होटल्स भी हैं, जहाँ हम जाना पसंद करते हैं.उन दो होटल्स के अलावा भी कुछ और बातें हैदराबाद की देखिये इस पोस्ट में.

अल्फ़ा होटल, सिकंदराबाद 

अल्फ़ा होटल शायद हैदराबाद के बड़े होटलों में गिना जाये(सिटिंग कैपसिटी के अनुसार).सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन के सामने ही है ये अल्फ़ा होटल.अल्फ़ा होटल के तीन सेक्सन है -एक ऐ.सी.सेक्सन, एक सिंपल डाइनिंग सेक्सन और एक टेक अवे सेक्सन, जहाँ से लोग खाना पार्सल ले सकते हैं और चाहे तो खड़े हो के खा सकते हैं..स्नैक्स, चाय,जूस, बेकरी के आइटम के लिए भी अल्फ़ा होटल जाना जाता है.हम सभी दोस्तों का शायद सबसे पसंदीदा होटल.हम जब भी हैदराबाद आते थे तो स्टेशन के पास ही किसी होटल में रुकते थे.तो रात का खाना ज्यादातर अल्फा में ही खाते थे.ट्रेन के लिए रात का डिनर(जो की हमेशा बिरयानी ही होता) भी यहीं से पार्सल लेते थे..सबसे अच्छी बात इस होटल की जो है वो ये की आपको बेहद ही अफोर्डेबल रेट में बेहतरीन क्वालिटी का खाना मिलता है और क्वांटिटी तो पूछिए ही मत.तंदूरी रोटी का साईज देख के ही आपका सर चकराने लगेगा..आमतौर पे हर आईटम चाहे पनीर हो या चिकन या कुछ और, आपको ७०-१०० रुपये में एक प्लेट मिल जायेगी..और क्वांटिटी इतनी रहती है की आप अकेले शायद ही खत्म कर पायें. एक दफे की बात है..मैं और मेरी बहन पटना जा रहे थे.दोपहर चार बजे की ट्रेन थी, तो हम लंच के लिए अल्फ़ा होटल में ही गए.ये जानते हुए की क्वांटिटी यहाँ बहुत रहती है, मैंने कम ही खाना ऑर्डर किया था..लेकिन फिर भी लंच इतना हो गया की हमें नूडल्स, जो हमने जरा भी नहीं खाया था, पैक करवा के ले जाना पड़ा..

खाना तो अल्फ़ा होटल का हम सबको पसंद आता था ही लेकिन खाने के साथ साथ कुछ खट्टे मीठे अनुभव भी रहे हैं यहाँ के..हमारे मित्र नेता बाबू(तन्मय सौरभ) जो की अनजान व्यक्तियों से मित्रता करने में एक महारथी से कम नहीं, इस होटल के एक वेटर को भी उन्होंने अपना दोस्त बना लिया था..बात शुरू तब हुई जब मैंने कहा नेता बाबू से, की ये वेटर शयद बिहार का है..बोली वैसी ही लग रही है.फिर क्या था नेता बाबू अपने चिर परिचित अंदाज़ में उससे बात करने लगे, गांव घर की बातें, हैदराबाद में कैसे गुजर होता है उसकी बातें…जल्दी हो फोन नंबर की भी अदला बदली भी हो गयी..मैं और अकरम हैरान से थे की ये किसी से भी कितनी आसानी से दोस्ती कर लेता है 🙂. कभी कभी माहौल बिगड़ भी जाता था.अब रेस्टुरेंट में जब बीस बाईस लड़के खाने एक साथ आयेंगे तो माहौल थोड़ा बिगड़ेगा ही न…कितने ही बार वेटर या फिर रेस्टुरेंट के मैनेजर से लड़के उलझ जाते थे..कई ऐसे वाकये हुए हैं जो उस समय बेहद इम्बैरसिंग लगते थे लेकिन अब सोचता हूँ तो हंसी आती है.
स्वाति रेस्टुरेंट एंड टिफिन सेंटर, सिकंदराबाद

ये एक छोटा सा होटल है, फिर भी काफी अच्छा बना हुआ है..सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन के ठीक सामने है ये होटल.हम जब पहली बार जब हैदराबाद घूमने आये थे तो इसी होटल में ब्रेकफास्ट के लिए आये थे..शायद जितने भी दोस्त हमारे रहे हैं, सब इस होटल में आ जरुर चुके हैं..ठीक दाम में अच्छा नाश्ता या फिर लंच आपको मिल जाएगा यहाँ.यहाँ का “मलाईकोफ्ता” मुझे सबसे ज्यदा पसंद था..एक प्लेट मलाई कोफ्ता उस समय ३० रुपये में मिलता था..दाम तो वैसे अब भी ज्यादा नहीं बढ़ा..पिछले साल गया था तो ३० से बढ़कर दाम बस ४० ही हुआ था..अब भी जब जाता हूँ हैदराबाद तो ट्रेन से ही जाता हूँ और हमेशा सुबह का नाश्ता मैं यहीं करता हूँ.

पार्क लेन सिकंदराबाद 
पार्क लेन में चिनॉय ट्रेड सेंटर 

हम तीसरे सेमेस्टर में थे और हमें कंप्यूटर खरीदना था.कम्पूटर खरीदने के लिए हमें हैदराबाद आना पड़ता था.हम लोगों का एक दोस्त मंगलम, जो हैदराबाद में ही रहता था..उसने पहले ही बता दिया था की पार्क लेन में एक चिनॉय ट्रेड सेंटर है जहाँ कंप्यूटर का बहुत बड़ा बाजार है.शायद हैदराबाद में सबसे बड़ा कंप्यूटर का बाजार.हमने कम्पूटर वहीँ से ख़रीदा था.चिनॉय ट्रेड सेंटर में आपको कई तरह के सॉफ्टवेर, ब्लैंक सी.डी, गेम्स, विडियो सोंग्स,एम्.पी.थ्री, बेहद कम दामों में मिल जाएंगे.उन दिनों मुझे इन चीज़ों का बहुत शौक था.मैं जब भी हैदराबाद जाता तो चेनॉय ट्रेड सेंटर जरुर जाता.वहां एक दूकान से मेरी अच्छी जान पहचान और दोस्ती हो गयी..पांचवें सेमेस्टर में जब दो तीन और मित्रों को कंप्यूटर लेने की जरुरत पड़ी तो वो मुझे ही ले गए हैदराबाद.दुकानवाले से मेरी जान पहचान के कारण डिस्काउंट भी अच्छा खासा मिल जाता था..अनिमेष जी को भी जब कम्पूटर खरीदना था तो वो मुझे ही साथ ले गए..डिस्काउंट तो मिला ही उन्हें, दूकान वाले ने चाय,कोल्ड ड्रिंक्स भी पिलाई हमें..अनिमेष थोड़े चकित थे की दुकानवाला इतनी खातिदारी क्यों कर रहा है हमारी..🙂 कहने लगे की “अभिषेक भाई आपका तो ‘टाईट’ जान पहचान है हैदराबाद में” 🙂.हालत ऐसी हो गयी थी की मेरे कुछ जुनिअर्स को जब कम्पूटर लेना होता था तो वो मेरे से उसी दूकान का एड्रेस लेते और मेरा रेफरेंस देते..दूकान वाला भी “बीदर कॉलेज वाले अभिषेक” के नाम से मुझे पहचान जाता.पिछले साल मार्च में उस दूकान में फिर से गया था..मुझे लगा की वो मुझे भूल गया होगा, लेकिन उसने पहचान लिया..हाँ, नाम मेरा वो शायद भूल चूका था..लेकिन शक्ल से उसने पहचान ही लिया.उस दूकान का नाम है “ग्लोबल कंप्यूटर्स”

सालारजंग संग्रहालय

चार साल हम हैदराबाद आते जाते रहे, लगभग हर जगह हम घूम चुके थे, लेकिन कुछ ऐसी जगहें थी जहाँ हम गए ही नहीं थे.ऐसी ही एक जगह का नाम -सालारजंग संग्रहालय.लड़कों को संग्रहालय जैसी जगहें काफी बोरिंग लगती हैं, इसलिए कभी हमने वहां जाने का प्लान ही नहीं बनाया था.चारमिनार जाने के रास्ते में ही सालारजंग संग्रहालय आता है..मैं जब भी जता चारमिनार हमेशा सालारजंग संग्रहालय जाने की बात सोचता, लेकिन कभी जा न सका..पिछले साल जब मैं दीवाली पे पटना जा रहा था तो हैदराबाद हो के ही जाना हुआ..हैदराबाद सुबह पांच बजे ही मैं पहुँच गया था और ट्रेन थी रात के दस बजे.दिन भर का समय था.तो सोचा कहीं घूम लूँ..बिरला मंदिर गया, और फिर वहां से चारमिनार चला गया.कुछ देर युहीं आसपास घुमा और फिर यकायक दिमाग में ख्याल आया की इतने सालों से हैदराबाद आते रहा हूँ, लेकिन सालारजंग एक बार भी नहीं गया..फिर क्या था तुरंत चारमिनार से ही सालारजंग के लिए ऑटो ले लिया और पहुँच गया सालारजंग संग्रहालय.संग्रहालय की भव्यता देख मैं सोचने लगा की कितना बड़ा बेवकूफ हूँ मैं की अभी तक यहाँ नहीं आया था.सालारजंग संग्रहालय एशिया का सबसे बड़ा संग्राहलय है और यहाँ विश्व का सबसे बड़ा ऐन्टीक कलेक्सन रखा हुआ है..यहाँ के ऐन्टीक कलेक्सन को देखने के लिए दुनिया भर के लोग और रिसर्चर आते हैं.यहाँ कई वर्षों पुरानी और बेशकीमती कलाकृतियों का संग्रह उपलब्ध है.चालीस गैलरी हैं इस संग्राहलय में..जहाँ तरह तरह की नायब चीज़ें रखी हुई हैं.हर गैलरी काफी बड़ा है और कुछ कलाकृतियों को देख तो आप हैरत में पड़ जाएंगे, कई कलाकृतियाँ तो 17वीं शताब्दी की है.बताया जाता है की यहाँ पे कुल १ मिलियन अलग अलग तरह की वस्तुएं और चीज़ें रखी हुई हैं..किसी किसी  विशेष दिन सालारजंग संग्रहालय में फ्री के गाईड भी उपलब्ध रहते हैं..जिस दिन मैं गया था उस दिन भी फ्री के गाईड उपलब्ध थे…तो बहुत सी बातें पता चली वहां रखी चीज़ों के बारे में.नवाबों के समय की बहुत सी चीज़ें, जेवर, गहने  रखे हुए हैं यहाँ….हर कुछ इतना खूबसूरत दिख रहा था की दिल किया फोटो ले लूँ, लेकिन वहां फोटोग्राफी की सख्त मनाही है.


कराची बेकरी 

अगर हैदराबाद बिरयानी के लिए मशहूर है तो यहाँ बेकरी आइटम भी ए-वन क्लास की मिलती है.शायद सबसे अच्छी बेकरी मिलती है यहाँ;.वैसे तो पुरे साउथ इंडिया में बेकरी का खूब प्रचलन है, नोर्थ में तो साऊथ के मुकाबले बेकरी का कुछ भी प्रचलन नहीं..हैदराबाद की “कराची बेकरी” पुरे भारत में मशहूर है.इसके बारे में भी मुझे अपने दोस्त मंगलम से ही पता चला था.हैदराबाद के कोटी इलाके में ये कराची बेकरी है और बहुत से बड़े बड़े शादियों और फंक्सन में यहाँ से केक, पेस्ट्री, स्नैक्स, बिस्कुट और बाकी बेकरी की चीज़ें जाती हैं..कराची बेकरी में पहली बार मैं मंगलम के साथ ही गया था.यहाँ के चोकलेट केक और बिस्कुट कमाल के होते हैं..शायद मैंने इतना अच्छा बेकरी का आइटम पहले कहीं नहीं खाया था.मंगलम के घर के पास में ही एक और बेकरी की दूकान है..मंगलम ने मुझे बताया की यहाँ भी केक और बहुत से सामान कराची बेकरी से ही आते हैं…बस करांची बेकरी का नाम सुन कर ही मैंने वहां से ड्राई केक,मफिन और और भी कुछ आइटम पैक करा के घर ले गया था.केक और बाकी चीज़ें घरवालों को भी काफी पसंद आई थी.

अमीरपेट से ऑटो लेना 

हैदराबाद का अमीरपेट इलाका काफी फेमस है..कहा जा सकता है की अमीरपेट हैदराबाद का शोपिंग हब जैसा है..हर किस्म के कपड़े आपको यहाँ मिल जाएंगे…महंगे से महंगे और सस्ते से सस्ते.हम जब भी बसब्कल्याण से हैदराबाद आते तो अमीरपेट स्टॉप पे ही उतरते थे.अक्सर हम रात में ही सफर करते.बारह एक बजे वाली बस लेते जो की हैदराबाद तीन चार बजे तक पहुंचा देती.अमीरपेट से सिकंदराबाद हम ऑटो से जाते थे.रात को एक झुण्ड में अमीरपेट के सड़कों पे चलने में एक अलग ही मजा था..थोड़ा आवारगी का भी अहसास होता था.कभी कभी लड़के नौटंकी भी करने लगते थे..सड़कों पे गाना गाते हुए चलना या फिर ऑटो वाले को परेसान करना.एक बार की बात है,हमें अमीरपेट से सिकंदराबाद के लिए ऑटो लेना था.हमारे नेता बाबू, अनिमेष भाई और बाकी मित्रों ने एक शर्त रखी की हम उसी ऑटो में जाएंगे जिसमे बाजा(स्टीरेओ) होगा..बिना बाजा के ऑटो में नहीं जाएंगे.हममे से कुछ ने समझाने की कोशिश की कि रात के दो बज रहे हैं, सीधे सीधे जो ऑटो मिलता है, उसमे चलो..लेकिन हमारे नेता बाबू कहाँ मानने वाले थे.वो अड़े हुए थे की उसी ऑटो से जाएंगे जिसमे बाजा होगा..आधे घंटे के बाद आखिरकार एक ऑटो मिला जिसमे बाजा भी था, और हम पुरे रास्ते बाजा सुनते हुए सिकंदराबाद पहुंचे 🙂 


समित बाबू और हैदराबाद 
हमारे प्रिय मित्र मिस्टर समित बाबू को भी हैदराबाद शहर बहुत अच्छा लगता है..समित का फेवरिट जगह है प्रसाद मॉल.वो मुझे कहता “यार पुरे हैदराबाद में सबसे अच्छा जगह यही है…हम तो यहाँ सुबह से रात तक बैठे रह सकते हैं…कितना बढ़िया जगह है ये”..समित बाबू का प्रसाद के प्रति ये लगाव ऐसे ही नही था..बात थी की उस समय हैदराबाद में सिर्फ और सिर्फ प्रसाद ही एकमात्र मल्टीप्लेक्स था, तो सारी हाई-फाई लड़कियां प्रसाद में आराम से दिख जाती थी…और लड़कियों को लेकर समित बाबू कितने भावुक हैं ये तो हम सब दोस्त अच्छे से जानते ही हैं :)..सुन्दर लड़कियों को देख लड़कों का दिल तो धड़कता ही है, लेकिन समित बाबू का दिल थोड़ा ज्यादा जोर से धड़कता है.इसलिए भी समित बाबू को प्रसाद मल्टीप्लेक्स कुछ ज्यादा पसंद था.

समित का एक बहुत बुरा अनुभव भी रहा है हैदराबाद में. हम घर जा रहे थे..शाम चार बजे की ट्रेन थी और हम हैदराबाद बारह बजे के आसपास पहुँच गए थे.अब समय हाथ में था, तो हमने सोचा की एक बार बिरला मंदिर में दर्शन कर लें.हम तीनो(मैं,समित और अकरम) ऑटो से पहुंचे बिरला मंदिर, हम सबने अपना सामान क्लोकरूम में नहीं रखा था, बल्कि साथ ही लेते आये थे..समित बाबू ऑटो वाले को पैसा देने में व्यस्त थे, और हम दोनों अपने अपने बैग को ऑटो से निकालने में.हम लोगों के पास एक ही बैग था और समित बाबू के पास दो बैग. जब हम मंदिर पहुंचे तो अचानक अकरम ने ध्यान दिया की समित एक ही बैग पकड़े हुए है..उसने दूसरे बैग के बारे में समित से पुछा..हमारे समित बाबू ये सोच रहे थे की उनका दूसरा बैग अकरम ले कर पीछे से आ रहा है..और अकरम ये सोच रहा था की समित तो अपना समान निकाल चूका है ऑटो से..हम जल्दी जल्दी वापस उसी जगह फिर से आयें जहाँ ऑटो से उतरे थे…लेकिन ऑटो वाले का कोई पता नहीं चला..एक अच्छी बात ये रही की कोई खास जरुरी समान उस बैग में नहीं था..कपड़े ही थे केवल..लेकिन फिर भी वो पूरा दिन हमारा बर्बाद ही हो गया था.

ओसमानिया यूनिवर्सिटी 

ओसमानिया यूनिवर्सिटी कैम्पस का एक भाग 

पिछले साल मार्च की बात है..एक बैक की परीक्षा के लिए हैदराबाद जाना हुआ.मेरा दोस्त मुराद हैदराबाद में उस समय ओसमानिया यूनिवर्सिटी से एम्.बी.ए कर रहा था.तो उसी के घर रुकना हुआ.उसका घर ओसमानिया यूनिवर्सिटी के कैम्पस में ही आता है.कम से कम सात-आठ किलोमीटर में ओसमानिया यूनिवर्सिटी फैला हुआ है.मैं इससे पहले कभी यहाँ नहीं आया था.लेकिन ओसमानिया यूनिवर्सिटी के कैम्पस की खूबसूरती देख मैं सोचने लगा की काश मैं भी यहीं पढ़ा होता.शाम के वक्त नजारा कुछ और ही होता है यहाँ का..लड़के लड़कियां झुण्ड बना कर बैठे रहते हैं..चाय वाला चाय बेचते रहता है..मूंगफली, चना वाला भी इधर उधर घूमते रहता है..लोग भी शाम बिताने यहाँ आते हैं..छोटे बच्चे भी दिख जाते हैं, कैम्पस के पार्क में खेलते हुए.जगह जगह लड़के और लड़कियां बैडमिंटन खेलते भी दिख जाते थे. जिस दिन हम पहुंचे थे हैदराबाद, उस दिन पूरी शाम हमने यहीं बिताई थी..और फिर रात में निकल गए बावर्ची, बिरयानी खाने :).

हमें ये कैम्पस इतना पसंद आया की सुबह भी हम टहलते हुए इसी कैम्पस में फिर से आ गए..हैदराबाद में तो सुबह भी कुछ जल्दी हो हो जाती है..गर्मी के दिनों में साढ़े पांच-छः बजे धुप सी निकल आती है.दूसरी सुबह हम कैम्पस में इधर से उधर घूमते रहे..सुबह के पांच बजे ही कैम्पस पहुँच गए थे और नौ बजे तक इधर ही रहे.

मुराद और मनीष सर, ओसमानिया यूनिवर्सिटी 
ओसमानिया यूनिवर्सिटी में…पिछले साल मार्च की तस्वीर 

(हैदराबाद की दो और खास घूमने वाली जगहें हैं – गोलकुंडा फोर्ट और रामोजी फिल्म सिटी. रामोजी फिल्म सिटी अब तक मैं गया नहीं हूँ, और गोलकुंडा फोर्ट भी बस एक बार ही गया हूँ…इसलिए बताने लायक ज्यादा बात नहीं है..वैसे तो हैदराबाद की और भी बहुत सी बातें हैं, जिन्हें हो सके तो फिर कभी बताऊंगा)

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. bro alfa resturent mein khaana kisne nahi khaya hoga…u missed d biryani of alfa resturant..achhi hoti hai yaar 🙂

    n haan golconda fort pe likhna chahiye….nahi to ek kaam karo…fir se jaao ek baar fir se ghoom aao….tab likhna…main to kai baar jaa chuka hun;….

    hussain saagar waali photo faadu hai boss…

  2. कितनी तन्मयता से लिखते हो…इतने डिटेल्स याद रहते हैं??…दाद देनी पड़ेगी तुम्हारी याददाश्त की…यात्रा वृत्तांत लिखने में तो आप सबको पीछे छोड़ने वाले हैं.
    क्या खूब घुमा रहे हो..हैदराबाद….मजा आ रहा है…

  3. हैदराबाद घुमाने के लिए बहुत आभार अभिषेक जी। बहुत दिनों से तमन्ना थी देखने थी। उस्मानिया यूनिवर्सिटी बहुत भव्य लगी।

  4. मैं सन्डे को ही इसे पोस्ट करने वाला था…लेकिन अपने लिखे से पता नहीं क्यों संतुष्ट नहीं था मैं…मैंने दो तीन बार पढ़ा..कुछ अच्छा नहीं लग रहा था…

    अब आप लोग की तारीफ़ देख लग रहा है की शायद अच्छा लिख ही दिया हो.. 🙂

  5. अभि जीऐतना सुन्दर विस्तार से और तस्वीरों के साथ विवरण बहुत अच्छा लगा। अगर आओ हैदराबाद की इतनी तारीफ करेंगे तो हमे हैदराबाद देखने आना पडेगा। देख लीजिये आपको ही कष्ट देंगे अपना तो कोई और है नही वहाँ। शुभकामनायें।

  6. वैसे तो मैं रहता हूँ बैंगलोर में…लेकिन आप जब भी हैदराबाद आएँगी तो बस एक बार कह दीजियेगा…हम पहुँच जायेंगे हैदराबाद..
    मैंने तो पहले ही कह दिया है की हैदराबाद घूमने का हमें तो बस बहाना चाहिए 🙂

  7. aarre waah, yeh toh part one se bhi zada accha likha hai aapne, ab toh bahut zada mann kar rha hai jaane ka hyderabad!

    aapne bahut mehnat ki hai iss post ko likhne main..! dikh rha hai post padh ke.

    great work :)) and nice pics all of them!

  8. खूब घुमा रहे हो हैदराबाद..ठीक भी है..मैं भी तो घूम ले रही हूँ यहीं बैठे बैठे..
    तस्वीरें अच्छी लगी!!

  9. अच्छा आलेख ,मग़र अब हालात बदल चुके है जहाँ आप बैठे थे अब वहां पुलिस बैठती है यह समय समय की बात है

  10. Pretty Interesting post. Couldn't be written any better. Reading this post reminds me of my old room mate! He always kept talking about this. I will forward this post to him. Pretty sure he will have a good read. Thanks for sharing!

  11. वैसे नामपल्‍ली के सामने समय बिताना हमें खूब भाया था लेकिन अभी जीपुल रेड्डी के कागज टाइप की किसी मिठाई की याद सब पर भारी पड़ रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें