बहन इन डिमांड

सबसे लोकप्रिय पोस्ट कौन?  – बहन से जुड़े सभी पोस्ट…

आज युही ब्लॉगर डॉट कोम के स्टैट्स को चेक कर रहा था, एक अजीब पर बड़ी प्यारी बात पता चली..जब मैंने ब्लॉगर में री-इंट्री मारी थी(जनवरी 2010), तब का पहला पोस्ट अब भी सर्वाधिक पॉप्युलर है..इस साल के पहले पोस्ट में मैंने अपनी सबसे छोटी बहन रीती की कुछ तस्वीरें लगाई थी..पोस्ट का शीर्षक था मेरी सबसे छोटी और सबसे प्यारी बहन  ..कल रात युही जब ब्लॉग आंकड़े पे नज़र गयी मेरी तो पता चला की 1 जून से लेकर अभी तक वो पोस्ट(रीती वाली) कुल 1037 बार पढ़ी गयी है. पढ़ी गयी है या बस क्लिक की गयी है, पता नहीं..लेकिन लोग किसी न किसी तरह से उस पोस्ट पे आ ही रहे हैं, चाहे गूगल पे “छोटी बहन” सर्च कर के या फिर किसी दूसरे तरीकों से….इन बातों में एक स्पेशल बात ये है की अधिकतर लोग जो उस पोस्ट पे किसी न किसी तरह से पहुँच रहे हैं, वो देश से बाहर रह रहे हैं..अगर मैं ये मान के चलूँ की जून से अब तक वो पोस्ट 1037 बार पढ़े(या क्लिक किये) गए हैं, तो जनवरी से जून तक भी शायद यही आंकड़े रहे होंगे…या नहीं भी रहे होंगे..अगर यही आंकड़े रहे होंगे तो कुल मिलाकर जबसे ये पोस्ट लिखी गयी तब से इस पोस्ट को 2000 क्लिक मिले होंगे.

वैसे तो जो अच्छे और बड़े राइटर्स हैं, उनके लिए ये पेज क्लिक आंकड़े या ऐसे हिट्स तो बहुत मामूली बात है, लेकिन इस आंकडें से जुड़ी एक और विशेष बात आपको बताना चाहूँगा…वो बात जानने के लिए पहले आप ये आंकड़े देखिये, १ जून से अभी तक मेरे ब्लॉग के टॉप ६ सर्वाधिक पॉप्युलर पोस्ट(ब्लॉगर डॉट कोम स्टैट्स से लिया गया).

१. मेरी सबसे छोटी और सबसे प्यारी बहन – 1037 Page Views
२. बहन के सगाई के कुछ खास पल..तस्वीरों में – 711 Page Views
३. छोटे छोटे भाइयों के बड़े भैया – 603 Page Views
४. मेरी नालायक सी दोस्त रिया – 471 Page Views 
५. कुछ यादें मेरी..कुछ खास तस्वीरें –  401 Page Views
६. बहन की बातें, एक बार फिर – 315 Page Views

इन सभी पोस्ट्स में से अगर चौथे और पांचवें नम्बर की पोस्ट को हटा दूँ तो बाकी के सभी चार पोस्ट्स खासकर के मैंने अपनी बहनों के लिए ही लिखा था..पांचवें नंबर की जो पोस्ट है, उसमे भी मेरी बहन का जिक्र है…मतलब ये की, चौथे नंबर की पोस्ट को छोड़ बाकी सभी पोस्ट्स मेरी बहनों से जुड़े हुए हैं…तो इस बात का सीधा सीधा मतलब मैं ये निकाल लूँ की मेरे ब्लॉग पे वोही पोस्ट सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं जो मैंने अपनी बहनों के लिए लिखा था..अगर फीडजीट के आंकड़े की मानूं तो सबसे ज्यादा क्लिक जो मेरे ब्लॉग को मिलते हैं, उनमे सबसे ज्यादा सर्च टैग वर्ड जो रहते हैं वो हैं “बहन की सगाई, छोटी बहन, प्यारी बहन, बहन की बातें..”

ये मात्र एक संयोग भी हो सकता है की सबसे ज्यादा हिट्स जिस पोस्ट को मिलते हैं, वो बहनों से जुड़े रहते हैं…बात कुछ भी हो..मगर कल रात ये छोटी सी बात मेरे चेहरे पे एक प्यारी मुस्कान दे गयी…..शायद इसलिए भी की मैं अपनी बहनों से बहुत जुड़ा हुआ हूँ, बहनों के बहुत करीब हूँ..

वैसे तो ब्लॉग के बहुत से पोस्ट में ये बता चूका हूँ की मैं अपनी तीन बहनों(ऋचा,निमिषा और दीप्ति) से बहुत करीब हूँ, तो कल रात एक कविता सा कुछ लिखने की कोशिश की थी मैंने….

शायद पसंद आये आपको..

छोटी रीती से बड़ी दीदी तक
यूँ तो हैं कई प्यारी बहने मेरी..
लेकिन “तीन-तिकड़ी” की,
बातें है सबसे जुदा..


एक है लीडर, एक समझदार,
और एक है डफर भी..
लीडर अपनी लीडरगिरी दिखाती,
डराती और धमकाती भी,
समझदार कभी अच्छी बातें करती,
तो कभी लीडर से जा मिलती…
डफर तो डफर है,
हमेशा कन्फ्यूज रहती..
क्यूट, बुड़बक, बेवकूफ सी बातें करती..
वैसे तो रहती ये लीडर के खेमे में,
कभी कभी लेकिन,
एक चोकलेट के लिए मुझसे आ मिलती..




जब रहूँ घर पे,
तो ये “तीन तिकड़ी“,
सर पे चढ़ के नाचतीं,
बे-सर पैर की बातों में,
मुझको उलझाती..
जो मैं गुस्सा दिखाऊं तो,
सेंटी बातों और धमकियों से,
मुझपर वार करतीं..
कभी इरिटेट होता मैं,
तो कभी प्यार आता इनपे..


ये हैं मेरी “तीन तिकड़ी”,
थोड़ी समझदार सी,
थोड़ी स्वीट सी, 
थोड़ी क्यूट सी, 
और बेहद नादान..


(ये आप ही समझिए की तीनो बहनों में से समझदार, लीडर और डफर कौन है  😛 )

मेरी ये पोस्ट तो तब तक पूरी नहीं हो सकती, जब तक “रीती” का जिक्र न हो..रीती वाली पोस्ट अगर इतनी हिट न होती तो ये पोस्ट भी नहीं लिखता…तो लीजिए एक बार फिर दो तीन तस्वीरें और देख लीजिए मेरी सबसे
छोटी बहन रीती की…,

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति, और उतनी ही प्‍यारी रीति की तस्‍वीरें …..बधाई सुन्‍दर प्रस्‍तुति के लिये ।

  2. Baat sach ho saktee hai aapki…pardes me rahnewale bhaai.apnee bahanon ko khaas yaad karte honge!
    Waise Reeti kee tasveeren aur aaapki rachana dono bahut badhiya( cute aur sweet) hain!

  3. फूलों का तारों का सबका कहना है ,एक हजारों में मेरी बहना है 🙂
    ये बहने होती ही ऐसी हैं सफलता की सीडियों जैसी 🙂
    बढ़िया पोस्ट है अभि!और कविता पढते हुए तो होटों पे मुस्कान चिपकी रही 🙂

  4. शिखा दी, आपसे भी तो वहीँ मुलाकात हुई थी…रीती की तस्वीरों वाली पहली पोस्ट पर…:)

  5. मुझे तो सही में तुम्हारी तीनो बहेन बड़ी प्यारी लगती हैं. और तुम्हारा उनसे जुड़ाव साफ़ दीखता है.

    कविता भी तुम्हारी बहनों की तरह क्यूट सी है. 🙂

    और रीती की तस्वीरें बेहद प्यारी और मासूम.

  6. सचमुच में आपकी रीति बहुत प्यारी है! और पोस्ट भी बहुत प्यार भरा. खासकर कि आपके लिखने का तरीका ऐसे जैसे बस एक धाराप्रवाह में बोले जा रहे है. आपके ब्लॉग को मार्क कर लिया है ताकि कोई पोस्ट छूटने न पाएं.

  7. प्यारी बहनों का प्यारा सा भैया…कितनी शिद्दत से यादों को समेटा है इन पोस्ट्स में और इतनी क्यूट सी कविता भी लिख डाली…
    बस ये प्यार ऐसे ही अक्षुण रहें….असीम शुभकामनाएं

  8. तुम सच में बहुत सीधे और अच्छे हो दोस्त.. दुनिया को अभी तक समझ नहीं पाए हो.. मेरे इस कमेन्ट का मतलब समझ ना आये तो फोन करना..

    ऐसे ही बहनों से तुम्हारा स्नेह बना रहे दोस्त.. 🙂

  9. तुम बहुत लकी हो, जो इतनी प्यारी तुम्हारी बहनें हैं और तुम्हारी बहनें उससे भी किस्मतवाली हैं, जो उनका इत्ता प्यारा सा भईया है.
    कविता बड़ी प्यारी लगी. ये स्नेह यूं ही बनाए रखना… अपनी शादी के बाद बहनों को भूल मत जाना, जैसा कि अक्सर भाई लोग करते हैं.

  10. एक चोकलेट के लिए मुझसे आ मिलती..
    छोटों का प्यार चोकलेट से ही होता है… अभी भैया…. बहने तो स्वीट होती हैं ना…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें