क्लूनी..पिएर्स और अर्नोल्ड – एक बार फिर

इस पोस्ट को समझने के लिए पहले देखें की भूमिका में कौन कौन हैं  – 


मैं(अभिषेक) – जोर्ज क्लूनी
राहुल उपाध्याय – पिएर्स ब्रोसनन 
मनीष मलिक – अर्नोल्ड  श्वाजेनेगर


(हम दोस्तों का ये निकनेम है, और कोई बात भी इस पोस्ट में बनावटी नहीं लिखा गया है, जैसे हम दोस्तों की कभी कभी बात होती है, मैंने हू-ब-हू वैसे ही लिखा है …ज्यादा जानने के लिए पहला वाला ये पोस्ट पढ़ें)



पिएर्स – एक बात बताओ क्लूनी, तुम सम्राट मेस में खाना खाते हो न? , कल ही तुमको देखा गया है सम्राट मेस में…तो झूठ मत बोलना तुम. 



क्लूनी – देखो सुबह का टाइम है…और अभी हम बैटिंग करने के लिए तैयार भी नहीं हैं…तुम काहे बॉल डाल रहे हो फ़ालतू में…हम तो पेवलियन में भी नहीं हैं अभी.
पिएर्स – हो गया, बॉल नहीं खेल पाए तो नौटंकी शुरू तुम्हारा…अरे सीधा सीधा बोलो न खतरनाक बोल्ड हो गए हो.
क्लूनी – सुनो, पहले त तुम फ़ालतू बात करना बंद करो और दूसरा की तुमको इतना ही शौक है बोलिंग करने का तो ज़हीर खान बन जाओ न … सुने हैं की इंडियन क्रिकेट टीम में एगो बोलर का जरुरत है.
पिएर्स – काहे?? तुम भी जा रहे हो क्या सचिन तेंदुलकर की जगह पे.
क्लूनी – हम काहे जाएंगे…यहाँ इतना फिल्म बाकी पड़ा हुआ है..उसको कौन पूरा करेगा रे..?? तुम्हारे जैसा नहीं हैं न की जबसे जेम्स बोंड ऊ डेनिअल क्रेग को मिला है तब से बेरोजगारी का जिंदगी गुजार रहे हो..
पिएर्स – देखो तुम फिर से प्रोफेसन पे आ गए…हम कित्ता बार कहे हैं तुमको की दोस्ती और प्रोफेसन को मिक्स मत करो..
क्लूनी – अरे तुम त सेंटिया गए रे…हम तो अईसेही बोल रहे थे..वैसे ई बताओ की बहुत देर से अर्नोल्ड नहीं दिखा है….कुछ खोज खबर है क्या उसका.?
पिएर्स – अरे तुमको मालुम नहीं है रे…उसके साथ बड़का धोका हुआ है..
क्लूनी – का हुआ …हमको तो नहीं मालुम है..
पिएर्स – अरे एगो फिलिम आया था न अभी कुछ दिन पाहिले – द इक्स्पैन्डेबल्स..उसमे अर्नोल्ड का भी १५-२० मिनट का सीन था..लेकिन भारी लोचा हो गया.
क्लूनी – क्या हुआ बताओ तो..
पिएर्स – अरे ऊ डायरेक्टर जो था न , सिल्वेस्टर स्टेलोन ..ऊ न पाहिले प्रोमिस किया था अर्नोल्ड से की अगर ऊ
फिलिम करेगा तो उसको पईसा भी अच्छा दिया जाएगा और पार्टी भी दिया जाएगा कोई अच्छा रेस्टरान्ट में..एही उम्मीद से अर्नोल्ड पहिला सीन किया…लेकिन फिर उसको ऊ सिल्वेस्टरवा धोखा दे दिया…सौ रुपिया पकड़ा दिया हाथ में और उत्कल मेस में खाना खिला दिया. अब बताओ इत्ता बेईज्जती कोनो कैसे बर्दास्त कर सकता है..फिर का था, उ बाकी का सीन करबे नहीं किया…बेचारा का वही एगो सीन रहा दू मिनट वाला..

क्लूनी – यार ई तो बड़ा गलत हुआ…इसका पुरजोर विरोध करना चाहिए…

पिएर्स – हाँ नहीं तो..ई तो होवे किया और उसपे से ऊ जे है न ट्रांसपोर्टर वाला हीरो…ऊ जेसनवा…उसको खूबे हाईलाईट किया है. अब तुम ही बताओ..ई सिल्वेस्टरवा तो अपने बिरादरी का है न…मतलब अपने एज-ग्रुप का है न रे…तो उसको अर्नोल्ड को चांस देना चाहिए…वैसे भी बेचारा जब से मेयर बना है तब से फिलिम नहीं मिल रहा उसको…


क्लूनी – हाँ यार सही कहते हो..ई सब के बाद तो अर्नोल्ड पे विपत्ति का पहाड़ गिर गया होगा…कहाँ है ऊ..का कर रहा है?

पिएर्स – का करेगा…बाथरूम बंद कर लिया है…और बोला है हमको की बाथरूम में जाकर रोयेंगे…

क्लूनी – ओह पुअर गाए….

पिएर्स – पुअर गाए? अरे उ गाता भी है का रे…

क्लूनी – एकदम जाहिल रहोगे जिंदगी भर…अंगेजी फिलिम में कैसे काम करते हो रे जब समझ में नहीं आता अंग्रेजी…हम बोले थे o h  p o o r   g u y ….

पिएर्स – ओह्ह हाँ हाँ समझ गए..

क्लूनी – खैर छोड़ो ई सब..इ सब के खातिर तो मोर्चा निकला जायेबे करेगा…पाहिले ई बताओ , सुने हैं थोमस क्राउन फिलिम का एगो दूसरा पार्ट भी आ रहा है…और ई भी सुनने में आया है की उसमे ई कमीना ब्रैड पिट हाथ मार लिया है….

पिएर्स – छोड़ो यार क्या कहें अब…एही गम से त रोज शाम को बार में चले जाते हैं…दारु पिए…अब तुम्ही बताओ, ई जे है ब्रैड पिट..इ सब हमनी के बराबरी करेगा?? तुम्ही न उसको बहुते हाईलाईट किये थे ओशन इलेवन में..कित्ता बोलें थे उस वक्त की इसको मत लो…कोई दूसरा हीरो को ले लो…लेकिन तुम मेरा बात सुनो तब न..

क्लूनी – अरे यार गलती हो गया…अब का कहे और……वैसे बड़ा गलत हुआ रे तुमरे साथ…तुमरे जईसन हैंडसम एक्टर को निकलना पड़े थोमस क्राउन सेकण्ड पार्ट से त बड़ा दुःख वाला खबर है रे…एही से बोले थे की अभी मत छोड़ो जेम्स बोंड वाला पार्ट…कुछ इज्जत रहता न अगर काम कर रहे होते…

पिएर्स – अब का करे..विपरीत समय में बुद्धि भी भ्रष्ट हो जाता है…हम लोग अब बुढा गए हैं..अब कोई पूछने वाला नहीं..

क्लूनी – ऐ सुनो तुम…माइंड यओर लैंगग्विज…बुड्ढा किसको बोला रे…तुम और अर्नोल्ड बुढाया होगा…हमरा इस्माइल देखा है…आज भी लईकी सब मरती है…आज भी हमरा कहा जाता है “सेक्सीएस्ट मैन अलाइव ओन
अर्थ”…

पिएर्स – हो गया, मौका देखे नहीं की तुम भी बोलिंग डाल दिए…

क्लूनी – हा हा, कैसा लगा ई वाला बॉल..

पिएर्स – ज्यादा इतराओ मत…हम डिफेंस कर लेते लेकिन ई साला बॉल साइड से कट होकर विकेट में कब लग गया पते नहीं चला…

क्लूनी – रुको हम ज़रा अर्नोल्ड को फोन करके बुलाते हैं…उसको सान्तवना दिया जाएगा..

पिएर्स – हाँ हाँ बुलाओ, वैसे भी शरीरे से भाडी भड़कम है….दिल से त एकदम कमज़ोर है…साला कहीं इस गम में  हाथ का नस वस काट लिया तो लेना का देना पर जाएगा…

क्लूनी – अरे कॉल तो जाईये नहीं रहा है मेरा मोबाइल से, लगता है बैलेंस खत्म हो गया है…मेसेज कर दिए हैं वैसे, आता होगा…

पिएर्स – जोर्ज क्लूनी के सेल में मेसेज बैलेंस खतम हो गया..?? घोर आश्चर्य..

क्लूनी – सुनो तुम चुप चाप चाय पियो तो…सुबह से बॉल पे बॉल डाले जा रहे हो…ई भी नहीं देख रहे की बैट्समैन रेडी है या नहीं…

पिएर्स – ये अच्छा है..जब तुम बोलिंग करते हो तब ??? तुम भी तो हमको कितना बार खतरनाक तरीका से बोल्ड कर चुके हो…

क्लूनी – ठीक है ठीक है…अर्नोल्ड को आने दो फिर तुमसे निपटेंगे…अभी कुछ दिन से मेरा प्रैक्टिस छुटा हुआ है तो बहुत तुम काबिल बन रहे हो….आये दो अर्नोल्ड को.

पिएर्स – तुम खाली धमकी देते रहना…चलो जब तक ऊ नहीं आता तब तक एगो जोक भेज रहे हैं…सुन लो…

 गब्बर – ये हाथ मुझे दे दे ठाकुर …
             ठाकुर – ले ले…साले मेरे हाथ भी ले ले, वीरू के भी ले ले..
                          ..जय के भी ले ले…बसंती के भी ले ले…और दुर्गा माँ बन जा साले..
             गब्बर – अरे सॉरी यार, टू तो सेंटी हो गया 😛

क्लूनी – हुहं सिली पर्सन…सिली जोक्स…कौन सेंड किया है तुमको ई वाला जोक?

पिएर्स – (पिएर्स थोड़ा अपने कैरेक्टर से निकलता है और बोलता है – अरे जी एगो ऑफिस में लड़का है..उहे ई सब जोक भेजते रहता है….आपको तो मेसेज करबे करते हैं न बाकी का जोक सब…

क्लूनी – (देखते हुए की बॉल डालने का चांस है) हाँ हाँ मिलते रहता है….वैसे पिएर्स तुम कौन सा कंपनी में काम करते हो…उन्हें छोटका वाला जो कंपनी है “यूनिवर्सल”

पिएर्स – बाबा आप क्लूनी क्लूनी बन के जबरदस्त बोल्ड कर दिए हैं हमको….”लिए सो हैं आप” 😛

(राहुल बाबा उर्फ पिएर्स ये जान रहे थे की सुबह से वो हमको बोल्ड करते आ रहे हैं लेकिन लास्ट वाला गेंद पे उ खुद बोल्ड हो गए हैं…और अईसा बोल्ड हुए हैं की विकेट का गुल्ली बाउंड्री पे फेंका गया है.)

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. पहला वाला भी मैंने पढ़ा था. वो भी बहुत मजेदार था.
    तुम लोग ऐसे बात करते हो क्या. मजे हैं अभिषेक !!
    और वो वाला चुटकुला तो पहले सुन चुकी हूँ मैं. कसम से क्या मस्त चुटकुला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें