इंजीनियरिंग के वो दिन – कुछ किस्से

आज(15 september)* इंजीनियरर्स डे है, भारत रत्न एम्. विश्वेश्वराया के जन्मदिन पे मनाया जाता है ये दिन. एम् विश्वेश्वराया को इंजीनियरिंग में एक विजार्ड, एक जादूगर कहा जाता था. उन्ही के जन्मदिन के अवसर पे सारे इंजीनियरिंग कॉलेज में आज के दिन कई तरह के समारोह होते हैं. हम जब इंजीनियरिंग के पहले सेमेस्टर में थे तब हमें पता चला इस इंजीनियरर्स डे के बारे में, कॉलेज में कोई बड़ा समारोह तो नहीं होता था इस दिन, लेकिन छोटा सा सेलिब्रेशन जरुर होता था. पहले ही सेमेस्टर में एक सीनिअर द्वारा इस इंजीनियरर्स डे के बारे में जानने का मौका लगा. खुशी और बढ़ी जब ये जाना की एम्. विश्वेश्वराया के नाम से ही अपनी यूनिवर्सिटी है, विश्वेश्वराया टेक्नोलोजिकल यूनिवर्सिटी(वी.टी.यु).पुरे कर्नाटक में एक ही मुख्य इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी है, जिससे कर्नाटक के सभी कॉलेज मान्यता प्राप्त हैं.एम् विश्वेश्वराया कर्नाटक के ही थे इसलिए हमारी यूनिवर्सिटी का नाम उनके नाम पे ही रखा गया, उनके सम्मान में.

अब आज इस इंजीनियरर्स डे के अवसर पे अपने इंजीनियरिंग के कुछ पलों को याद करने का हक तो बनता ही है अपना, तो चलिए आपके साथ कुछ ऐसे ही पल बांटता हूँ 🙂

रैगिंग 

इंजीनियरिंग में दाखिला जब हुआ तो सबसे पहले ख्याल आया “रैगिंग” का. उस समय ज्यादा कुछ पता नहीं था इंजीनियरिंग के बारे में, बस इतना पता था मुझे की इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लेना है, क्या होता है इंजीनियरिंग कॉलेज में, इस बात पे बिलकुल अनजान था, थोड़ा बहुत इस रैगिंग के बारे में ही जानता था. पटना में जिस कोचिंग में पढ़ने जाता था, वहां के लड़के जो दिलो-जान से इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तय्यारियों में जुटे रहते थे वो भी तरह तरह के रैगिंग के किस्से सुनाते रहते थे, तो एक डर जैसा कुछ अंदर बैठ गया था की पता नहीं रैगिंग में सिनिअर्स क्या क्या करवाएंगे..कुछ लड़कों से ये भी सुन रखा था की कुछ सिनिअर्स बत्तमीजी भी करते हैं जुनिअर्स के साथ..कुल मिलाकार एक डर जैसा ही बैठ गया था दिल में.
पापा मुझे छोड़ने ब्सवकल्याण(जहाँ से हमने इंजीनियरिंग पढ़ी) तक आये थे, जब होस्टल हम लोगों का अलोट हो गया, और जब पापा चले गए वापस तब डर कुछ और बढ़ गया रैगिंग को लेकर.

जिस दिन पापा गए, उसके दूसरे दिन ही मेरी पहली रैगिंग हुई…वो रैगिंग कुछ खास नहीं थी, बस युही एक सीनिअर ने बुलाकर मुझसे इंट्रो(इन्ट्रोडक्शन) लिया था. उस समय तक हमारे बिहारी/नोर्थ के सिनिअर्स छुट्टियाँ बिता के नहीं आये थे, क्यूंकि उनके क्लासेज दस दिन बाद शुरू होने थे, इस कारण कुछ दिनों की हमें राहत मिली थी, इस बीच बस हलकी फुलकी ही रैगिंग होती रही जो बस इंट्रो तक ही सिमित रही. जिस दिन हमारे बिहार के सिनिअर्स के कल्याण(ब्सवकल्याण) आने की शुभ घोषणा हुई, उसी दिन से हमारी असली रैगिंग चालु हो गयी. फिर क्या था हर रात होस्टल के कमरों में सिनिअर्स का घुस आना और सुबह ४-५ बजे तक रैगिंग का कार्यक्रम चलाना एक रूटीन बन गया था जो की ६-७ दिनों तक चलते रहा. रैगिंग के दौरान वैसा कुछ भी नहीं हुआ जैसा मैं सोच के डर रहा था, मजेदार रैगिंग होती थी हमारी…बहुत सुन रखा था की रैगिंग में अभद्र भाषा/हरकतें भी होती हैं, लेकिन हमें कभी वैसा कुछ देखने को नहीं मिला..बस सिनिअर्स की कुछ मनपसंद फरमाइश रहती थी की गाना सुनाओ, चुटकुले सुनाओ, छोटा सा कोई नाटक दिखाओ इत्यादि..

लेकिन कहते हैं न की जहाँ रैगिंग की बात हो वहां कुछ न कुछ तो गडबड होना तय ही होता, वैसा ही हुआ हमारे कॉलेज में भी. एक दिन कुछ सिनिअर्स ने रैगिंग के बहाने कुछ लड़कों की थोड़ी बहुत पिटाई कर दी. फिर क्या था, हमारे बैच में भी काफी गर्म-मिजाज लड़के थे, सबने एक साथ सुर में सुर मिलाया और अगले दिन कॉलेज में स्ट्राइक करने का फैसला लिया. कॉलेज वालों ने जैसा सोचा होगा, उससे लाख गुना भयानक स्ट्राइक हुआ हम लोगों का, कॉलेज वालों और सिनिअर्स भी शायद इस स्ट्राइक से थोड़ा डर सा गए थे, और डरते भी क्यों नहीं, कुछ लड़कों ने ऐसा माहौल ही बना दिया था..सबके माथे पे बड़ा सा लाल टिका लगाया गया, ऐसा लग रहा था की जैसे हम लोग कोई जंग के लिए निकल रहे हों…भयानक शंखनाद हुआ, और हम सब नार्थ इंडियन लड़के(करीब ६०-७०) कॉलेज पहुंचे एक ट्रक में चढ़ के, 😛 पहले तो यही सीन देख कॉलेज वालों का सर चकरा गया..और फिर हमारे ग्रुप में ऐसे तीन चार लड़के थे जो लीडरगिरी में एक्सपर्ट थे, प्रिंसपल और कॉलेज मैनेजमेंट क्या करते, बस माफ़ी मांग के रह गए और वादा किया की अगर ऐसा कुछ आगे हुआ तो सख्त कारवाई की जायेगी, और अंत में सिनिअर्स और जुनिअर्स का समझौता हुआ. लेकिन इन सब बातों में हम जुनिअर्स जश्न मानते रहे की हमारे आगे सिनिअर्स ने घुटने टेक दिए 😉

[वैसे नोट किया जाए की उनमे से कुछ सिनिअर्स हमारे काफी अच्छे दोस्त भी हैं, जो अभी ये पोस्ट पढ़ भी रहे होंगे ;)]

व्हाईट हाउस होस्टल, बेकरी और अरुण मेस

चौकिये मत इस नाम से, हम लोग वाकई व्हाईट हाउस में रहते थे :P,असल में हमारे होस्टल का नाम था व्हाईट हाउस :). काफी छोटा सा होस्टल था ये, बस १२ लड़के रहते थे, लेकिन जितनी मस्ती इस होस्टल में हमने की, शायद  उतनी मस्ती फिर कहीं नहीं की हमने. एक परिवार सा बन गया था ये होस्टल. एक अटैचमेंट जैसा हो गया था इस होस्टल के साथ. चाहे हो शाम के समय सारे दोस्तों के साथ छत पे बैठना और गप्पे लड़ाना या फिर रात भर नाचना गाना..हर पल में मस्ती थी. शाम के समय सारे लड़के एक साथ निकलते थे बेकरी पे नाश्ता करने.. पता नहीं किन कारणों से हमारे सिनिअर्स ने बेकरी पे जाने के लिए मना कर रखा था, लेकिन हम भी तो उस्ताद जुनिअर्स निकले..सिनिअर्स के आदेश की धज्जियाँ उड़ा के पहुँच जाते थे बेकरी, और वो भी सब लड़के एक साथ..:) सिनिअर्स भी बेचारे क्या करते…बस देख के रह जाते थे 🙂

कल्याण में हम लोगों का एक हैंग-आउट पॉइंट बना, वो था अरुण मेस. हम वहीँ खाना खाते थे..अरुण उड़ीसा का  था और अरुण मेस का मालिक भी वही था, उससे थोड़े समय में ही दोस्ती हो गयी..नोर्थ इंडियन जैसा कुछ खाना मिलता था वहां, इसलिए हम लोग वहां चले जाते थे खाने. अरुण मेस के सामने खाली जगह थी, जहाँ २-३ टेबल लगे रहते थे, शाम के समय उन टेबलों पे हमारा कब्ज़ा रहता था. करीब शाम ५-६ बजे ही सब दोस्त वहां जुट जाते थे और महफ़िल सज जाती थी. उन दिनों हम फर्स्ट इयर में ही थे, और बेपरवाह, आज़ादी से सड़ेआम हम अपनी महफ़िल सजाय रहते थे…सिनिअर्स जब ये देखते होंगे की हम कैसे इतने बेपरवाह रहते हैं, उन्हें अटकता तो जरुर होगा लेकिन हमने कभी इस बात की परवाह नहीं की, की  सिनिअर्स हमें इस तरह देख क्या बोलेंगे..और ना कभी सिनिअर्स ने हमें टोका.

टी.वी सेट और वी.सी.डी प्लयेर इन होस्टल

हम लोगों का होस्टल वैसा कुछ हाई फाई नहीं था, ना ही कोई टी.वी था और ना ही कुछ मनोरंजन का दूसरा साधन. मेरे पास एक टू-इन-वन था, जो मैं पटना से लेकर आया था, और कुछ कैसेट..बस दिल लगाने के लिए यही साधन था हमारे पास. चुकीं पुरे होस्टल में सिर्फ मेरे पास ही टू-इन-वन था, तो सारे लड़के मेरे इसी टू-इन-वन के धुनों पे नाचते रहते थे :). फिर एक दिन कुछ सिनिअर्स से पता चला की होस्टल में टी.वी भाड़े पे लाकर हम लोग फिल्म देख सकते हैं, बशर्ते वार्डेन को पता नहीं चले..हम लोगों के जो होस्टल वार्डेन थे, वो होस्टल में रहते नहीं थे, बस हर रात दस बजे के लगभग एक बार इन्स्पेक्सन के लिए आते थे..अब जब भी हमें फिल्म देखने का दिल करता, जो की हफ्ते में एक बार तो कर ही जाता था.तो सबसे पहले पैसे कलेक्ट होते थे.. प्रत्येक लड़के १० रुपये देते थे और फिर एक दिन के लिए टी.वी और वी.सी.डी आता था भाड़े पे..उन दिनों वी.सी.डी का बहुत ज्यादा प्रचलन नहीं था..तो बहुत से लड़कों को तो ओपरेट करना ही नहीं आता था. एक लड़के को खास जिम्मेदारी दी जाती थी की टी.वी का रिमोट और वी.सी.डी का रिमोट वही संभाले..अब जब चौबीस घंटे के लिए भाड़े पे टी.वी आता था तो हम इस बात का पूरा धयान रखते थे की एक भी मिनट बेकार नहीं जाए 😉 मानिए अगर शाम के सात बजे टी.वी आया, तो शो टाइमिंग होता था रात के नौ-दस बजे से सुबह के पांच-छः बजे तक, और फिर सुबह नौ बजे से शाम पांच-सात बजे तक..

होस्टल में वैसे तो टी.वी लाने की अनुमति नहीं थी, लेकिन हम ले ही आते थे टी.वी…चाहे क्रिकेट मैच देखना हो या फिर फ़िल्में देखना, टी.वी हफ्ते में एक बार आना तो तय ही रहता था. होस्टल वार्डेन को भी पता रहता ही था की हम टी.वी लाते थे, फिर भी वो कुछ नहीं बोलते थे.

तीन कम्पुटर एक हॉस्टल में, 

मेरा कम्पूटर

इंजीनियरिंग के पहले साल तो हम व्हाईट हाउस में रहे.व्हाईट हाउस होस्टल हमें कॉलेज के तरफ से अलोट हुआ था, और कॉलेज के होस्टल सिमित थे, इसलिए सेकेंड इयर में हमें अपने लिए एक नया होस्टल या फिर फ़्लैट खोजना था, तब तक हमारे ग्रुप में २-३ और लड़के आ गए थे और हम कुल १६ लड़के हो गए थे, बड़ी मशक्कत के बाद हमने एक फ़्लैट मिला किराये पे..असल में पूरी बिल्डिंग ही हमने ली थी..अगर ग्राउंड फ्लोर को छोर दें तो..ग्राउंड फ्लोर के अलावा दो और फ्लोर थे. इस बिल्डिंग का नाम वैसे तो कुछ नहीं था, लेकिन पता नहीं कैसे,किसने,कब रखा इस बिल्डिंग का नाम -“पिंक हाउस”.

अब हम सेकण्ड इयर में आ चुके थे, और पिंक हाउस में भी अपनी जगह पक्की हो गयी थी, अब समय था एक कम्पुटर लेने का.वैसे तो इंजीनियरिंग में पैरेंट्स बच्चों को ये सोच कम्पूटर खरीद देते हैं, की बच्चे कम्पूटर का इस्तेमाल पढ़ाई में करेंगे, और कुछ प्रोग्रामिंग सीखेंगे, कुछ नया जानेंगे…लेकिन इंजीनियरिंग में कितने लड़के कम्पुटर का सही इस्तेमाल(पढ़ाई में) और कितने लड़के कम्पुटर का इस्तेमाल गेम खेलने, फ़िल्में देखने में करते हैं, ये तो सभी को पता है..:) हम लोगों में से तीन लड़कों को कम्पुटर खरीदना था, एक तो मुझे, और बाकी दो थे समित, आशीष. जब हमने कम्पुटर खरीदी, उसके बाद तो हमारे फ़्लैट में जैसे लड़कों का तांता लग गया.
हम तीनो एक ही फ़्लैट में रहते थे और एक ही फ़्लैट के तीन ब्लोक में तीन कम्पुटर. अब तो शुरुआत के १०-१२ दिन ऐसा होने लगा की बाकी दोस्त जो दूसरे फ्लैट्स में रहते थे, वो भी दिन भर हम लोगों के ब्लाक में ही अपना समय गुजारने लगे..या तो गेम खेलने में या फिर फिल्म देखने में..कभी कभी तो ऐसा होता था की एक दोस्त कम्पुटर पे गेम खेल रहा है तो दूसरा उसके पीछे खड़ा है, इस इंतज़ार में की वो उठे तो उसे गेम खेलने मिले .. 🙂

जिस दिन कोई नयी फिल्म की वी.सी.डी आती थी मार्केट में, उस दिन तो हमारे कमरे में पांव रखने तक की जगह नहीं रहती थी..सबके सब मौजूद रहते थे फिल्म देखने के लिए..और दोस्तों की ऐसी भीड़ में फिल्म देखने का मजा ही कुछ और होता था.

ऐसे ही कई छोटे बड़े किस्से हैं इंजीनियरिंग के, जिनमे से कुछ किस्सों का जिक्र मैंने यहाँ इस पोस्ट में किया है. फ़िलहाल अगर ये पोस्ट आप लोगों को पसंद आई, तो बाकी की दो किस्तें भी इसके बाद आएँगी….


उन दिनों हमारे पास कैमरा था नहीं, इसलिए इंजीनियरिंग फर्स्ट इयर की एक भी तस्वीर नहीं है, और इंजीनियरिंग सेकण्ड इयर की कुछ ही तस्वीरें हैं, जो की मैंने अभी तक स्कैन नहीं की हैं…इसलिए कोई भी तस्वीर इस पोस्ट में मैंने लगाया नहीं है..


[ * नोट : ये पोस्ट मैंने कल ही लिखा था, लेकिन पता नहीं क्यों पोस्ट नहीं हो पा रहा था. इसलिए आज पोस्ट कर रहा हूँ और ये तारीख भी नहीं बदल रहा]

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. dekho tum white house men rehte the..mujhe pata ab chaalaa 😀
    waise film dekhte rehte the islie padhai nai karte the kyaa 😀
    chalo kuch bhi karo..mujhe to maja aaya post padh ke…
    and yeaa m waiting for 2nd post..

  2. one more thing..tumse kya kya karwayen tumhare seniorz yeh to tumne detail diya hi nahi 😀 not fair 🙂

    n thankz for information on M.visveswarai..
    mujhe pata nahi tha unke baare mein.

  3. हम इंजीनियरिंग वालो के दिन ही कुछ खास होते हैं…मज़ा आया आपके बीते दिनों को जानकर …अभियंता दिवस की शुभकामनाये ..

  4. अले वाह, कित्ती सुन्दर जानकारी ..बधाई. और आप तो खूब मस्ती करते थे …

    _____________________________
    'पाखी की दुनिया' – बच्चों के ब्लॉगस की चर्चा 'हिंदुस्तान' अख़बार में भी.

  5. हम्म अब होस्टल तो होस्टल ही होता है मस्ती से भरपूर ..पर हाँ रेगिंग तो अपनी गोल कर गए तुम 🙂 चलो कोई बात नहीं ,अब जल्दी जल्दी दूसरी किश्त डालो .
    इसे पढकर मजा आया बहुत.

  6. अरे क्या लिख दिया आपने हमें तो अल्ल्हाबाद याद आई गवा. वहां हम लोग भी लोग में ऐसे ही किराये पर टीवी विसियार लाकर फ़िल्में देखते थे.बहुत सी फ़िल्में मेरी वहीं की देखि हुईं हैं हाँ टाइमिंग भी काफी मिलती जुलती है,और १० १० रूपये का कलेक्शन भी सेम तरीके से ही होता था…..अगली पोस्ट का इन्तेजार रहेगा बेसब्री से…………….

  7. रे बच्चा लाल ….तो ई था कुल मिला कर तुम्हरे बिगडने का पूरा दास्तान ..शुरुए से ….एक लंबर के बदमाश रहे हो ..अच्छा अच्छा वीसीडी ..आउर फ़िल्लम भी ..व्हाईट हाऊस में इत्ती सारी रंगीन बातें ….।

    हैप्पी इंजिनियर्स डे…बड्डी….

  8. haan yar ye baat to hai…white house me bahut maza kiya….wo hostel hi kuch jaan dar tha..aur subse sepcial to uss hostel k piche wo ladki….naam yaad nai aa raha hai…pura ka pura hostl hi ek saath subah k 7 baje khada ho jata tha usko dekhne k leye….aur ragging k bare me v batao..kaise hum log tum log ka ragging leye tha.kaise tum log senior's pledge yaad kiye the.. 🙂

  9. अभी ईद के मौके पर एक मित्र के घर जाना हुआ.. उसने मुझसे कहा कि "यार, मेरा लैपटॉप पर ब्लू स्क्रीन आता है और शटडाउन हो हो जाता है.. तुम क्या कहते हो, क्या प्रॉब्लम है? क्या करूँ?"

    मैंने कहा, "ब्लू फ़िल्म ज्यादा देखोगे तो यही होगा.. ब्लू स्क्रीन ही आएगा हमेशा.. और ऊपर से रमजान के पाक महीने में.. छी छी.."

    वैसे वीसीपी पर तुम क्या देखते थे दोस्त? होस्टल के किस्से हमें भी पता है, हमने भी कई साल बिताया है होस्टल में.. सो हमसे झूठ मत ही बोलना.. 🙂

  10. @प्रशांत…

    थोड़ा शांत रहो तुम…हम तुम्हारे जैसे गंदे बच्चे नहीं हैं, 😛 😛

  11. अच्छी पोस्ट!……..

    कोई बात नही अगर आप लस्सी नही पीते…..
    एक बार पीकर तो देख ना……बार -बार
    पीयोगे.
    मेरे ब्लोग पर आने के लिये शुक्रिया ……

  12. बड़े मजेदार किस्से हैं,हॉस्टल के…ये वे सुनहरे दिन हैं जो वापस कभी नहीं आते.
    ऐसे संस्मरण पढ़ बहुत ही मजा आता है और तुमने हमेशा की तरह बहुत सहजता के साथ लिखा है.

  13. वाह भई वाह होस्टल में हम कभी रहे नहीं, परंतु होस्टल में हमने बहुत दिन बिताये हैं, सारे चलचित्र बरबस ही सामने आ गये।

    खूब मजे किये हैं…. अभि ..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें