मेरी नालायक सी दोस्त रिया :)


वो मेरी सबसे नालायक दोस्त है, और मैं उसका सबसे नालायक दोस्त :) ऐसा ही वो कहती है..हमारे बीच अगर लड़ाई न हो कभी फोन पे तो दोनों को अजीब सा लगता है, रात को नींद नहीं आती..बेचैनी सी रहती है, इसलिए हमने तय कर रखा है की जब भी फोन मैं उसे करूँ या वो मुझे करे तो हमें कम से कम 5 मिनट तो गरियाना ही है एक दूसरे को ;)  

वो मेरी बहुत अच्छी दोस्त है, लेकिन बहुत नकचढ़ी है, स्टाइल मारते रहती है, एक नम्बर की पागल और बेवकूफ है, लेकिन अब जैसी भी है, है तो मेरी दोस्त ही न... क्या कर सकते हैं, दोस्ती कर ली तो निभाना तो है  ही न   ;)
कल शाम में जब घर पे अपना ई-मेल चेक कर रहा था, उसी बीच उसका एक पिंग आया जी-टोक पे..कुछ जरूरी मेल को रिप्लाई कर रहा था, इसलिए ध्यान नहीं दे पाया..मोबाइल भी साइलेंट मोड में था, तो मेसेज के तरफ भी ध्यान नहीं गया, एक दो कॉल भी मिस हो गए थे...अचानक से जब मोबाइल के तरफ नज़र गयी तो देखा "Riya Calling" बड़े प्यार से मैंने मुस्कुराते हुए फोन रिसीव किया, उधर से आवाज़ आई "क्यूँ बे कमीने, भूल गया तू मुझे..भाव बढ़ गया है तेरा..बड़ा आदमी बन गया है का आज कल....अभी आ के लतियायेगें न तब अक्ल आएगा...मेरा पिंग का जवाब नहीं दिया..मेसेज का रिप्लाई नहीं...का चाहते हो, जान से मार दें तुमको "..
थोड़ा हँसते हुए और फिर गुस्सा दिखाते हुए मैंने कहा(गुस्सा नहीं दिखाऊंगा तो सर चढ़ जायेगी) - हद है यार...क्या बोल रही है...बोले के पहिले सोचती भी नहीं पागल लड़की..हम कुछ ऑफिस का मेल चेक कर रहे थे रे..इसलिए नहीं जवाब दिए और मोबाइल साइलेंट में था, पता नहीं चला..तुम तो हदे कर देती है कभी कभी...अजीब लड़की है तुम..दिमाग  नाम का चीज़ भी भगवान सबको दिए है..इस्तेमाल कर कभी उसका.. :P

इतना सुनते ही उसकी नौटंकी शुरू, कहने लगी "हाँ हमको  भी जब किसी का फोन रिसीव करने का मन नहीं करता न तो हम भी येही कह देते हैं की मोबाइल साइलेंट में था...अच्छा है चलो एक तुम ही तो मेरे अच्छे दोस्त थे, तुम भी दूर चले गए..दुनिया ऐसी ही है रे...सब एक दूसरे को नेगलेक्ट करते हैं..छोड़ो हम फोन रख रहे हैं, दिल दुःख गया, रोना आ रहा है...हम जी भर रो लेंगे तब बात करेंगे फिर से..(कसम से उसकी वो आवाज़ आपको सुननी चाहिए थी, मैंने रिकॉर्ड नहीं किया, यही गलती हो गयी)...ये सब सुनने के बाद मुझे तो बहुत ज्यादा हंसी आ रही थी, लेकिन हंसी को छुपाते हुए गुस्से में उसे जवाब दिया..."अच्छी एक्ट्रेस बन सकती हो...अब जल्दी से बताओ किस लिए फोनियाई हो हमको...तुम्हारे जैसे फालतु और बेवकूफ के लिए मेरे पास कोई टाइम नहीं नहीं है :P इतना सुनते ही वो अपने ओरिजनल रूप में वापस आ गयी और उसके बाद हमारी वो महा-फेमस जंग शुरू हो गयी फोन पे ही :D आमतौर पे ये जंग करीब 1 घंटे से ज्यादा चलती रहती है, लेकिन कल बस 45 मिनट ही चली, जो होता आया है वही हुआ...आख़िरकार मुझे ही हार माननी पड़ी :)

ये  पागल लड़की कभी कभी इतनी समझदारी की और इतनी अक्ल की बात कर देती है की क्या कहें....कुछ महीनो पहले, शायद फरबरी में, मैं थोड़ा सा डिप्रेस्ड था, कुछ बातों को लेकर..शाम में एक पार्क में बैठा हुआ था, की अचानक से इस पागल लड़की ने कॉल कर दिया, हमारी बीच लड़ाई तो बहुत भयानक और खतरनाक होती है लेकिन उसके साथ ही एक बात और भी है की वो आवाज़ से पहचान लेती है की मैं खुश हूँ या फिर थोड़ा डिप्रेस्ड..कभी कभी ये मेरी बेवकूफ दोस्त भी समझदारी की बातें करने लगती है..उस दिन भी पार्क में हलकी ठंडी हवा चल रही थी, और मैं चुपचाप बैठा था, इतने में ही इस लड़की का कॉल आया,..मैं जिन बातों से परेसान था वो बातें उसे भी पता थी..इसलिए वो मुझे कभी समझा भी रही थी, कभी कुछ सुझाव भी दे रही थी..हमने पुराने दिन की भी कई बातें याद की..उसकी हर बात मेरे चेहरे पे एक हलकी सी मुस्कान देते जा रही थी...उस समय मैंने उसकी कमी बहुत महसूस की थी...जब तक हमारी बातें चली, तब तक मैं बस यही सोच रहा था, रिया अगर मेरे पास होती तो अभी कुछ और बात होती...बहुत देर फोन पे बात करते रहे हम, फिर उसे कुछ काम था तो फोन रखना पड़ा..लेकिन उस दिन मुझे कॉल काटने का मन नहीं कर रहा था... 

वैसे ये लड़की हमेशा मुझपे हुक्म चलाते रहती है..अभी आज शाम में उसका फिर से फोन आएगा, आपको बताऊंगा तो आप हंसियेगा की वो फोन किस लिए करने वाली है...असल में ऑरकुट पे उसको एक टेस्टीमोनि़ल चाहिए, अच्छा सा...मुझे कहा उसने कल की- मेरे लिए लिख न एक टेस्टीमोनि़ल, मैं तुझे पटना में बसंत बिहार का कोल्ड-कॉफी पिलाऊंगी..टेस्टीमोनि़ल तो उसके लिए मैंने पहले भी लिखा था लेकिन उसको एक नया चाहिए, और उसकी ऑफर भी अच्छी थी इसलिए मैं तैयार हो गया टेस्टीमोनि़ल  लिखने को ;) लेकिन फिर उसने कहा मुझसे की सुन, मैं तुझे आज शाम में कॉल करुँगी, और जो जो मैं बोलूंगी(यानी उसकी बड़ाई) , वही लिखना..अपने मन से कुछ उल्टा पुल्टा मत लिख देना ;) मैंने देखा की अच्छा चांस है डील बढ़ाने का, तो मैंने कह डाला की कोल्ड-कोफ़ी से काम नहीं चलेगा, मोना सिनेमा हॉल में पिक्चर भी दिखाना परेगा...:P बेचारी को टेस्टीमोनि़ल चाहिए था तो मान गयी एक बार में ही ;) 

इस बेवकूफ लड़की की शादी होने वाली है जल्द ही, इसकी सगाई हो भी गयी...अब तो मैं इसी दुविधा में हूँ की इसके होने वाले शौहर को ये एहसास है भी या नहीं की कितनी बड़ी आफत गिरने वाली है उस बेचारे पे... ;)

इतनी  बड़ी हो गयी फिर भी बचपना नहीं गया अभी तक :)  
लेकिन ये मेरी बेवकूफ,स्वीट,पागल,क्यूट सी दोस्त बहुत प्यारी है....गुड़िया जैसी... :)
I Miss Her   

अभी  उसे ये पोस्ट की लिंक मेल करने जा रहा हूँ, और ये भी पता है की वो जब ये पढेगी तो आज शाम में फोन पे ही मेरी एक क्लास तो फिक्स है :P ... एक मजेदार,जोरदर लड़ाई आज शाम होने वाली है :D.....मैं तो तैयार हूँ पूरी तरह से :)

Comments

  1. Oho, waaqayi kitni sundar hai aap dono ki dosti!

    ReplyDelete
  2. :) ek dost humse udhaar maanga tha hum usse linkedin par 'recommendation' likhwaye the fir diye the :D

    ReplyDelete
  3. बड़ी प्यारी लड़की है. मुझे ऐसी नकचढ़ी लड़कियाँ अच्छी लगती हैं... मेरी एक मुंहबोली बहन भी ऐसी ही है... लेकिन पता है शादी के बाद लड़कियाँ दोस्ती नहीं निभा पातीं. पति लोगों को इस तरह कि दोस्ती पचती नहीं. भगवान करे आपके साथ ऐसा न हो और आपकी ये प्यारी सी दोस्त हमेशा अच्छी दोस्त बनी रहे और आपसे झगड़ा करती रहे ... एक-एक घंटे तक.

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. waah kitni sundar hai aapki dosti thora teekha thora metha great bonding

    ReplyDelete
  6. :) cute friend and sweet friendship... भगवान आपकी दोस्ती हमेशा ऐसे ही प्यारी सी बनाए रखे उम्र के हर दौर में...

    ReplyDelete
  7. @आराधना जी,
    बिलकुल आपसे सहमत हूँ.., मैं उस बारे में लिखना चाह रहा था लेकिन कुछ सोच के नहीं लिखा,
    शादी के बाद लड़कियां अपनी दोस्ती नहीं निभा पाती हैं, ये अक्सर देखा गया है..उनके पति को इस कदर की दोस्ती पसंद नहीं आती..यही एक कारन है... :)

    ये डर हमेशा लगा रहता है की अपनी १-२ बहुत अच्छी दोस्त से कहीं कुछ दूरी न बन जाए, उनकी शादी के बाद :)


    बाकी सभी मित्रों का शुक्रिया,

    ReplyDelete
  8. :) ओहो मजा आया अभिषेक
    रिया के बारे में मुझे भी पता है और तुम्हारे इस फेमस लड़ाई के बारे में भी

    ReplyDelete
  9. @abhishek

    so sweet.. riya n u look so sweet when u r fighting wid each other..
    and @abhishek and @mukti
    exactly..ye ek problem hai ki shadi ke baad ladkiyon ki dosti waisi nai reh paati hai :(

    @riya..
    waiting fr ur comment baby :)

    ReplyDelete
  10. आप दोनों की ये दोस्ती ऐसे ही बनी रहे !!

    ReplyDelete
  11. मैंने आराधना के कमेन्ट के बाद वाला नहीं कमेन्ट नहीं पढ़ा.. बस ऐसी ही एक दोस्त याद आ गई, जिससे उसकी शादी के बाद कभी बात नहीं हुई.. मेरे बचपन कि मित्र थी, जब मैं पांच साल का था और वो चार साल कि थी तभी दोस्ती हुई थी.. :(

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. gosh u made a blog post out of our conversation :P

    abhi main kuch nahi kahungi warna merii yeh imege aur kharaab ho jayegi..ruk abi phoniyate hain tmko =D

    n thnkz lot fr dat sweet wordzz yaar..

    kuch jhooth ab sun hi leh ab tu bhi

    abhi z so lovable..caring my darling frnd :-)
    thnkz for being thr n helping me in everythng :)) thnkzz for being my friend :)
    you are really a gem fr me


    u are a fab writer..at least in my view..i hvnt seen or read anything about great writers neither i hv any interest in reading novels or blogs :D but i just love ur blog :)

    LOVE YOU DOST :-)



    and testi abhi tak baaki hai n baaki baatein phone pe :-D

    @miss divya..
    i kno wat u were trying to say..so shut up :D aag lagane ki kosish mat kr tu :D

    - RIYA

    ReplyDelete
  14. आप चिन्‍ता मत करिए, आजकल शादी के बाद भी ऐसी दोस्‍ती खूब निभती है। बस हो सकता है कि बोलने का अंदाज कुछ बदल जाए क्‍योंकि बेचारे पतिदेव को भी तो ऐसा ही भाषण सुनना पड़ेगा तो मित्र अक्‍सर बच जाते हैं। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  15. रिया, मेरी तरफ से भी इसे गरिया देना.. बस ऐसे ही.. आखिर दोस्त है हमारा तो गाली खाने का इसका हक तो बनता है न.. ही ही ही.. :D

    ReplyDelete
  16. िस दोस्ती को सलाम। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. Anonymous19 June, 2010

    पुराने और बचपन के दोस्त बस कमाल ही होते हैं... उनके साथ बिताये गए पल जीवन भर गुदगुदाते हैं.

    ReplyDelete
  18. nice post, i think u must try this website to increase traffic. have a nice day !!!

    ReplyDelete
  19. Hi Abhi and riya,

    Nice post!, Beautifully written.

    Nowadays its not a big deal to maintain friendship after marriage. People are grown up and matured after marriage. There exists a mutual trust between a couple. When a wife accepts her hubby with all his friends, then why a husband won't accept his wife's friends?

    Gradually we all become family friends, if the friendship is pious and genuine.

    PS- I can see one more 'Divya' here. Hope you both have no confusion between the two Divyas.

    Regards,
    Divya [zeal]

    ReplyDelete
  20. " sundar post "

    ---- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com/2010/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  21. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  22. thanks everyone.. :)

    --RIYA

    ReplyDelete
  23. ha ha ha.. are yaar , aisa hi hota hai dosti me.

    ReplyDelete
  24. ये लड़ाईयां यूं ही चलती और बढ़ती रहें...आमीन

    ReplyDelete
  25. आपकी दोस्ती की गाथा सुनकर अपना भी एक दोस्त याद आ गया.....मज़ा आया पढ़कर!

    ReplyDelete
  26. यारों दोस्ती बड़ी ही हंसी है| ये न हो तो, बोलो, क्या ये जिंदगी है|

    ReplyDelete
  27. ese nalayak dosto k liye toh jaan bhi hajir rahti hai.....aap lucky hai .... aapki dosti k liye congrats..

    ReplyDelete
  28. आपकी दोस्ती बनी रहे...

    ReplyDelete
  29. बहुत मजेदार...| जाने क्यों इसमें एक बड़ा जाना-पहचाना सा शब्द है...:)
    वैसे शादी के बाद दोस्ती का ऐसा खूबसूरत अंदाज़ बदल जाता है कभी कभी, ज्यादातर परिस्थितियों के मद्देनज़र...|
    फिर भी, ऐसी सारी मित्रताओं को मेरी शुभकामना...ये दोस्ती यूं ही सलामत रहे...|

    ReplyDelete

Post a Comment

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया