एक छोटी बच्ची और उसका फूलों का गुलदस्ता..

बात आज शाम की है, जब मैं ऑफिस से वापस घर आ रहा था.एक ऐसी बात हुई जो वैसे तो कोई बड़ी नहीं लेकिन मैं बड़ी देर तक सोचता रहा.पता नहीं ये बात ब्लॉग पे पोस्ट करनी चाहिए या नहीं लेकिन मैं पोस्ट कर रहा हूँ.

मैं रहता हूँ बैंगलोर में और यहाँ ऐ.सी. वोल्वो बस बहुत चलती है.ज्यादातर रूट के लिए ऐ.सी वोल्वो बस हैं और जिस जगह मैं काम करता हूँ वहां के लिए वोल्वो बस की फ्रीक्वन्सी बहुत है.तो मैं आमतौर पे हमेशा वोल्वो बस से ही वापस घर आता हूँ.एक आदत सी बन गयी है, इसके लिए अब इंतज़ार करना भी पड़े तो कोई दिक्कत नहीं होती मुझे.आज भी 15 मिनट इंतज़ार किया तब जाके बस मिली.आज का मौसम भी बड़ा अच्छा था, कल रात बारिश हुई बैंगलोर में और दिन काफी अच्छा हो गया आज.मैं जैसे ही ऑफिस से बाहर निकला और बस स्टैंड की तरफ पंहुचा, वहां पे ज्यादा भीड़ तो नहीं थी, तो मैं एक कोने में खड़ा हो गया और बस के आने का इंतज़ार करने लगा.अभी ऐसे ही नज़रें इधर उधर गयी तो देखा की कुछ बच्चे जो काफी गरीब दिख रहे थे वो बस स्टैंड के एक कोने में कुछ खेल खेल रहे थे..शायद पिट्टो(जो हम लोग बचपन में खलते थे), बड़े प्यारे लग रहे वो बच्चे.उन्ही में से एक बच्ची थी बहुत प्यारी लग रही थी लेकिन बेहद गरीब भी.वो फूलों का छोटा सा गुलदस्ता बेच रही थी वहीँ.वहां वो बस स्टैंड पे खड़े काफी लोगों के पास गयी लेकिन हर कोई उसे भगा दे रहा था.पता नहीं क्यूँ वो मेरे पास नहीं आई.वो बच्ची सबको ऐसे हसरत भरे निगाह से देख रही थी, जैसे उसका गुलदस्ता कोई न कोई खरीदेगा जरूर. शायद उसके मन में ये भी चल रहा होगा, की सब लगभग पैसे वाले लोग खड़े हैं यहाँ लेकिन एक छोटा सा फूलों का गुलदस्ता लेने के लिए किसी के पास पैसे नहीं. मैं बस उस बच्ची को देखे जा रहा था, और पता नहीं कैसे कैसे ख्याल आ रहे थे मन में.थोड़ा मन उदास भी हो गया की इन बच्चों की ऐसी हालत है, इस उम्र में पढाई करनी चाहिए और खेल खेलना चाहिए, और ये तो फूलों का गुलदस्ता बेच रही है.थोड़ी देर रुकने के बाद जब मुझसे रहा नहीं गया तो उसके पास गया, उसने बड़े प्यार से एक छोटा सा फूलों का गुच्छा वाला एक गुलदस्ता दिया और बोला भैया बस 23 रुपये का है.मैंने पॉकेट से 30 रुपये निकले और उसे दे दिए, इतने में मेरी बस भी आ गयी और मैं बिना पीछे मुड़े बस के तरफ चल दिया.वो पीछे से मुझे बुला रही थी, शायद बचे हुए 7 रुपये देने के लिए लेकिन मुझे वो पैसे लेना गंवारा नहीं लगा, पता नहीं क्यूँ और बस पे चढ़ गया.

जब तक घर नहीं पंहुचा तब तक उस बच्ची के बारे में ही सोचता रहा, ये भी सोचता रहा की हम कितनी भी इनके बारे में बात कर लें लेकिन हम इन सब विषयों पे कुछ कर नहीं सकते हैं.अपने आप को बहुत छोटा भी महसूस कर रहा था..
फिर सोचा की जिंदगी यही है, हज़ार रंग हैं यहाँ, उसमे से ये भी एक रंग ही है…
इस  बात का बहुत अफ़सोस है मुझे की वो फूलों का गुलदस्ता बस में मेरी सीट पे ही छुट गया.पता नहीं शायद मैं कुछ ज्यादा ही दूर चला गया थाअपने सोच में की गुलदस्ता के बारे में ध्यान ही नहीं रहा.अभी खराब भी लग रहा है की वो स्वीट साफूलों का गुलदस्ता बस में छुट गया. 🙁


पता नहीं क्यूँ, ऐसे ही दिल किया यहाँ  ये पोस्ट करने का…

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. बहुत प्यारा पोस्ट.
    सच कहा, इस उम्र में उस बच्ची को स्कूल बैग लेके घूमना चाहिए लेकिन उसके कोमल हाथों में उसके परिवार के शाम के खाने का भार था. मैंने एक एन जी ओ ज्वाइन किया है – "आशा फॉर एजुकेसन" जिसमे हम छोटे छोटे प्रोजेक्ट्स लेते हैं बच्चों को पढाने का. कतरा कतरा करके ही तो सागर भी भरा है. अपना एक कतरा मैं भी डाल दूं.

  2. बहुत प्यारा पोस्ट है अभिषेक !
    अच्छा किया पोस्ट कर दिया यहाँ 🙂

  3. अच्छा लगा पढ़ कर. यही संवेदनाएँ जब तक जीवित हैं, आशा की कुछ किरण बाकी है.

  4. जिन्दगी के में बहुत कुछ दिल को दर्द देता है हार मोड़ पर क्या करें समझ में नहीं आता………..उस बच्ची के लिए कहूँगा …ये जिन्दगी गले लगा ले हमने भी तो तेरे हर गम को गले से लगाया है ना ……..उस बच्ची के पीठ पर भी पढाई का बस्ता दिखाई दे……

  5. कभी कभी ज़िन्दगी मे कुछ ऐसा घटित हो जाता है जिस के बारे मे हम कुछ कर भी नही सकते और सोचने को मजबूर होते है……………आपने तो फिर भी सही कदम उठा लिया वरना लोग तो देख कर अनदेखा करते ही है।आपकी पोस्ट कल के चर्चा मंच पर है।

  6. शुक्रिया वन्दना जी.. 🙂
    खुशी हुई हमें बहुत 🙂
    कल का इंतज़ार करेंगे 🙂

  7. हम चाह कर भी सबके लिए कुछ नहीं कर पाते…बड़े अफसोस की बात है…लेकिन सब मिलकर पहल करें तो बात बन सकती है

  8. Guddiezz gud ! Acha laga dekh k younger generationzz self employmnt ko kinna zor deti hai ! 😀 😀

    but ek baat toh hai govt. chahe jinne planss bana le but primary education ab bhi ek law sa banke reh gya hai… statss chahe kuch bhi bataye but aj kahi bhi dekho toh bacchee aksar red lights pe bechte hue mil hi jate hai….
    aur zada planss n actionzz ki zarurat hai…

  9. अभिषेक, ब्लॉग्गिंग इसी को कहते हैं… बहुत अच्छी पोस्ट है, जो ये दिखाती है कि आप कितने संवेदनशील हैं.

  10. बहुत ही संवेदनशील पोस्ट, क्या कहूँ…इतना दुखी हो जाता है,मन…कुछ दिनों के लिए एक संस्था 'हमारा फुटपाथ' में काम किया था…स्ट्रीट चिल्ड्रेन का हाल इतना बुरा है कि दिल भर आता है…ये मासूम जिनके खेलने खाने के दिन हैं….दो रोटी की जुगाड़ में लगे हैं…

  11. "हम कितनी भी इनके बारे में बात कर लें लेकिन हम इन सब विषयों पे कुछ कर नहीं सकते हैं.अपने आप को बहुत छोटा भी महसूस कर रहा था.."
    यही अहसास हमें अपना धरातल दिखा जाता है

  12. पता, जब तक दिल काम कर रहा है तब तक ही हम जिंदा हैं, दिमाग तो बस यूँ ही दे दिया है भगवान् ने.. उसके काम करने या नहीं करने से जिंदा होने की परिभाषा नहीं दी जा सकती… बस एहसास जिंदा रहने चाहिए….
    खुबसूरत और मन को छूने वाली पोस्ट..

  13. ऐसी कोई बात हो और तुम्हे गहरे तक न छुए…नॉट पॉसिबल…| सच कहें, तो बहुत बुरा लगता है बच्चो को खेलने -पढने की उम्र में यूँ काम करते देखना…| फिर भी रोज़ देखते हैं यहाँ-वहाँ…| तुम्हारी पोस्ट शायद बहुतों को कुछ सोचने पर मजबूर कर देगी…| और गुलदस्ते का गम काहे कर रहे भाई…किसी को तो मिला होगा…और जिसको मिला होगा, उसकी शाम भी महक गयी होगी तुम्हारे कारण…|
    देखो तो…तुम फिर वजह बन गए न किसी के मुस्कराने की…:)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें