छोटे छोटे भाइयों(बहनों) के बड़े भैया

कल शाम मैं IPL देख रहा था, की अचानक से मेरी छोटी बहन निमिषा का एक sms आया..वो sms कुछ ख़ास नहीं था, एक गीत के कुछ लाइन उस मेसेज में थे..पहले आइये सुन लें वो गीत कौन सा है फिर आगे की कहानी बताता हूँ.. 🙂

छोटे छोटे भाइयों के बड़े भैया..आज बनेंगे किसी के सैयां ..
ढोल नगाड़े बजे शेहनाईयां..झूम के आयीं मंगल घड़ियाँ..
भाभी के संग होली में रंग गुलाल उड़ायेंगे,
आएगी जब जब दिवाली..मिल के दीप जलाएंगे..
चुनरी की कर देगी छैयां, आएगी बन के पुरवैयाँ..
 छोटे छोटे भाइयों के बड़े भैया….
झिलमिल हो गयी है अँखियाँ,याद आयीं बचपन की घड़ियाँ..
नए सफ़र में लग जाएँगी, प्यार की इनको हथकड़ियाँ..
जचते हैं कैसे देखो बड़े भैया..राम जी बिहाने चले सीता मईया..

हाँ तो पहले ये बता दूँ की ये गीत जिस फिल्म की है, वो फिल्म “हम साथ साथ हैं” कई मायनो में हमारी पारिवारिक फिल्म है.पारिवारिक फिल्म इस तरह से है की शायद हमारे घर में ये फिल्म कुछ 100 -200 बार चल चुकी है.जब भी हमें फुरसत मिलती है और जब भी हम भाई-बहन एक साथ  फुरसत में बैठते हैं, ये फिल्म तो चल ही जाती है एक बार..
इस गीत के पीछे भी एक कहानी है, बात है ये बहुत पुरानी..शायद मैं 12 वीं में था उस समय.अचानक से मेरी बहन निमिषा ने ये कह दिया “भैया, तुम्हारी शादी जब होगी तब हम येही गाना गायेंगे”. मैं सब भाई-बहनों में सबसे बड़ा हूँ..तो उनका ये कहना लाजमी भी था..उस समय तो मैंने ऐसे ही सुन लिया और मुझे लगा था की निमिषा ने ऐसे ही कह दिया.लेकिन उस दिन से आज तक निमिषा की और मेरी बहेनो की ये ख्वाहिश बढती ही चली जाती है की “भैया के शादी में ये गाना जरूर गायेंगे”.मुझे तो हंसी आ जाती है, उनकी नादानी पे और उन सब की ऐसी ख्वाहिशों पे…:) एक और गीत है इस फिल्म में, अन्ताक्षरी टाइप का मेड्ली जिसके बोल हैं “सुनो जी दुल्हन एक बात सुनो जी..अपने नए परिवार से मिलो जी” , इस गाने में सैफ अली खान और करिश्मा कपूर बाकी के सभी परिवार के सदस्य की नक़ल करते हैं और उनपे गीत भी गाते हैं. मेरी बहनों ने तो यहाँ तक सोच लिया की “भैया की शादी में हम भी एक ऐसा ही कार्यक्रम करेंगे”..मेरी बहनों की और कितनी ऐसी योजनायें हैं ये तो मुझे सही से नहीं मालूम..छठ पूजा के दिन ये फिल्म का चलना तो शायद हम भाई-बहनों ने घर की एक परंपरा जैसा बना दिया है..मेरी तीनो बहन को और मुझे ये फिल्म बेहद ही प्रिय है.शायद ये एक मात्र ऐसी फिल्म है जो मैं किसी भी समय, कैसे भी मूड में देख सकता हूँ..और जब भी मैं ये फिल्म देखता हूँ तो मुझे तुरंत अपनी बहनों की और खासकर के निमिषा की याद आ जाती है.इस फिल्म का एक और गीत है “ये तो सच है की भगवान् है..है मगर फिर भी अनजान है…धरती पे रूप माँ बाप का, उस विधाता की पहचान है”, ये गीत मुझे कितना ज्यादा प्रिय है मैं बता नहीं सकता..इसलिए इसी गीत का एक चित्र मैंने इस पोस्ट में लगाया है.. 

वैसे तो मेरे कई बहनें हैं और भाइयों की भी अच्छी खासी संख्या है.ये बात आप इसी से अनुमान लगा सकते हैं की हर साल राखी में मेरे हाथ में करीब 8 -10 राखियाँ हो जाती है, ये राखियों की संख्या और भी बढ़ सकती है अगर सब जगह से(जहाँ जहाँ मेरी और बहने रह रही हैं) मुझे सही समय पे राखी मिल जाये तो 😉 . लेकिन हमारी जो गैंग है 4  की उनमे मैं, मेरी छोटी बहन ऋचा, निमिषा, और दीप्ति हैं.
हम चारो जब भी साथ रहते हैं तो पता नहीं क्या क्या बातें करते हैं.इधर उधर की बातें, बिना सर-पैर की बातें, बहुत ही ज्यादा फ़ालतू बातें..और मेरी बहन सब तो इतना ज्यादा बोलती हैं की मत पूछिए..हर बार मैं उनसे हार मान जाता हूँ 😉 मेरी मामी,मम्मी सब येही बोलती हैं की “तुम सब कितना परेशान करती हो अप्पू को” लेकिन इन्हें कोई फर्क नहीं परता और मुझे परेशान करने में कोई कसर नहीं छोरतीं ये तीनो.कभी कभी तो ये तीनो मुझपे ऐसे ऐसे गुगली डाल देती हैं की मैं तो पूरा बोल्ड ही हो जाता हूँ.मैं क्या, अगर मेरे जगह अगर सचिन भी रहे तो वो भी बोल्ड हो जाए..

मेरी जो छोटी बहन है ऋचा, वो ही मेरी बहनों के ग्रुप की लीडर है.और बाकी की सारी बहने उसकी चेली. इसने तो अपना मास्टर्स डिग्री भी ख़त्म कर लिया लेकिन फिर भी बाकी बहनों के साथ जब भी रहती है तो मुझे इसके बड़ा होने का कोई प्रमाण नहीं मिल पता उस समय.सब बहने तो इसके इशारे पे नाचती हैं.मुझे परेशान करने की प्लानिंग येही बनती है और बाकी की सब बहने वो प्लान एक्सक्यूट करने में लग जाती हैं. 😉 .. और एक तरफ ये जो निमिषा है, आजतक इसने कभी दिमाग वाली बातें नहीं की.तो मैंने ये कहना शुरू कर दिया की निमिषा का दिमाग तो कोई 7 -8  साल के बच्चे के दिमाग के बराबर है..वैसे ये निमिषा अभी 12 वीं में है और पढाई में तो बहुत ही अव्वल.हमेशा टॉप करती है अपनी क्लास में, लेकिन दिमाग तो एक बच्चे वाला ही है..मसलन एक बार सरस्वती पूजा के दिन हम सब एक साथ खाना खा रहे थे और अचानक से निमिषा ने पूछ दिया “भैया आज क्या सरस्वती जी का हैप्पी बर्थडे है”..मेरा तो हँसते हँसते हालात ख़राब हो गया… ;), एक और किस्सा परसों का ही है, उसने मुझे sms  किया “भैया अब मैं बड़ी हो गयी हूँ, मेडिकल एन्ट्रन्स की परीक्षा देने मैं अकेले ही गयी थी”..मैंने भी वापस जवाब दिया, ये सब बात से तुम क्या जाताना चाहती हो की तुम बड़ी हो गयी हो..तुम अभी भी बच्ची हो, बड़े होने में तो अभी बहुत वक़्त है तुम्हें 🙂 . शैतानियों में तो इसका कोई मुकाबला ही नहीं.अगर कोई शैतानियाँ और बक-बक करने का ऑस्कर होता तो मैं तो निमिषा को ही देता वो ऑस्कर..वैसे एक बात भी है, की इसकी बक-बक से ही तो हमारा दिल भी लगा रहता है, और चुप-चुप ये अगर रहे तो अच्छी भी नहीं लगती.और वैसे मुझे तो मुझे इसका ये बच्चा वाला रूप भी खूब भाता है. अब बारी है मेरी तीसरी और सबसे प्यारी बहन दीप्ति की, ये मुझे ज्यादा परेशान नहीं करती..क्यूंकि इसमें और मुझमे काफी समानताएं हैं..वैसे तो ये सुलझी हुई और भावुक लड़की है, लेकिन ये भी जब मेरी बहन ऋचा,और निमिषा के साथ रहती है तो ये भी मुझे परेशान करने में कोई कसर नहीं छोरती..हालाँकि ये मुझे ज्यादा परेशान नहीं करती, लेकिन हाँ गुगली डालना इसे भी आता है.दीप्ति अभी ग्रैजूएशन की पढाई कर रही है और ये लड़की काफी ज्यादा मेहनती है.मार्क्स और परीक्षा के परिणामो के मामले में मैं और दीप्ति की किस्मत एक जैसी है, हम दोनों को ज्यादातर कम अंक ही मिले हर परीक्षा में.लेकिन फिर भी मैं जानता हूँ की ये बहुत आगे जाएगी.परीक्षा में कितने अंक आये उससे सफलता का कुछ लेना देना नहीं है.


मैं जब भी अपनी बहनों के साथ रहता हूँ मुझे बड़ा ही अच्छा महसूस होता है. और अब तो मुझे अच्छा ख़ासा अनुभव भी हो गया है की इनकी गुगली को कैसे खेलना है, लेकिन फिर भी अक्सर मैं बोल्ड ही हो जाया करता हूँ…कभी कभी इनके फ़ालतू से बकवास का मेरे पास कोई जवाब नहीं होता और मुझे चिढाने में भी ये कभी कमी नहीं करती…वैसे अगर सच कहूँ तो इनसे हार मान कर भी दिल दुखी नहीं होता,अच्छा महसूस होता है.. येही तो रिश्ता है भाई-बहनों का…


निमिषा को मैंने कल वादा किया था, की अपने ब्लॉग पे ये वाला पोस्ट जरूर लिखूंगा , इसलिए उसको दिया वादा पूरा करते हुए… 🙂

अब जरा देख लें हम जो गैंग हैं वो लगते कैसे हैं…..

                                                                              बाएं से निमिषा,दीप्ति,ऋचा 


मैं अपनी तीनो बहनों के साथ, और साथ में है मेरा छोटा भाई आर्यन,छोटी बहन माही और एक छोटा भाई तन्मय, तन्मय फ्रेम में नहीं है क्यूंकि ये फोटो वो क्लिक कर रहा था..वैसे वो तो अभी बच्चा है फिर भी मोबाइल हो या कुछ और, वो ओपरेट कर लेता है..

                                                           बाएं से माही, दीप्ति, मेरे गोद में आर्यन, मैं, निमिषा, ऋचा. 
 

Recent Articles

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाया गया, चित्र उनके ट्विटर से लिया गया आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ....

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

बंद हो गयी भारत की सबसे आइकोनिक कार, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

Photo: CarToqपिछले सप्ताह, अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...

Related Stories

  1. bht bht bht achi post hai.. 🙂 🙂

    padhne me bht mazaa ayaa..! bt bht chota tha.. or bhi btana thaa aapko.. 🙂

  2. बहुत अच्छा लगा पढ़ कर ये वाला पोस्ट.काफी अच्छा लिखे हो अभिषेक.तुम्हारी सभी बहनों को मेरी तरफ से बहुत प्यार.

  3. bahut accha hai yaar main is ek cheej ko bahut miss karta hun. i have no sisters. well yaar abhishek u r very lucky u got such a nice sisters. aur jab itni tayyari chal rahi hai to jyaada intejaar mat karwana mere bhaiya ji. and yes sisters are so sweet give them love

  4. ये मेरा पहला comment है हिंदी मे.. 🙂 🙂
    मुझे पता है तुम्हें कितना परेशान और irritate करती है तुम्हारी बहन लेकिन ये भी जानती हूँ की u love them so much 🙂 🙂

    और वो गाने पे तो मैं कुछ comment नहीं करुँगी 🙂 :)..मेरा बहुत ही favourite गाना है वो और फिल्म में तो सलमान है तो awsum होना ही है..
    ये फिल्म इतनी ज्यादा अच्छी है की बस i love hum saath saath hain

  5. ab saadi kar bhi lo abhishek.baheno ke saath saath humein bhi tumhare saadi mein gana-nachne ka mauka mil jayega.waise mujhe to bulaoge hi na saadi mein apni??
    yaar bada maja aaya padh ke ye post..

  6. बहुत प्यारे से रिश्तों को जोड़ता हुआ बेहद प्यारा सा पोस्ट.. 🙂

    मेरी बहनों को ढेर सारा प्यार.. अरे भाई, तुम्हारी बहने मेरी भी तो बहने हुई ना.. 🙂

    वैसे एक बात बताता हूँ दोस्त, मुझे यह सिनेमा बहुत पकाऊ लगती है और मैंने एक बार भी नहीं देखा है.. ही ही ही.. 😀

  7. रिश्तो की गर्माहट लिए हुए थी ये फिल्म.. मैं भी कही बार देख चुका हूँ.. 'ये तो सच है कि भगवान है' मेरा भी फेवरेट गाना है.. और खासकर इस गाने के बीच आने वाला सीन जिसमे बहन बनी नीलम अचानक रोने लग जाती है.. बहुत टची सीन है.. ये बहने इतनी अच्छी क्यू होती है..?

  8. osum
    pehli baat to ye ki tumhari bahan sb bahut hi cute hain.

    aur unka ye sara planing mast hai ekdum..

    shadi kar lo abhishek ab der mat karo.
    ye movie hum saath saath hain..maine bhi kai baar dekha…..:)

  9. so sweet post…….maja aya padh ke….u are a great brother abhishek….luv ya 🙂
    and even i want invitation to your marriage soon…..;)

    toh ap kab bula rahe hein humein…….hum bhi to aapke baheno ka saath denge us gaane mein nachne mein………

    and only one thing is missing here….comments from all three sisters 🙂

    sabhi ko mera pyaar kehnaa

  10. HMMM….thnx….merriiiiiii innni taariff k liye n logon ko batane k liye ki hum teeno tumhen kitna padeshan karten hai………koi baat nahin…hota hai hota hai…ab tum hamare ghar k sabse SEEDHE bacche ho to kuch to side effect hoga na isska bhi……..

  11. aapki baat par koi shak to nahi tha…lekin RICHA ki comment padhne ke baad aapkii sachai par poora vishvaas ho gaya…..

    kabhi socha hai aapne ki bahne hi bhai ki shadi ko lekar itni utsahit ho saktin hain…bhai nahi….kyunki bhai ki shadi vidai khushi bhari hoti hai bahan kii shadi me nahi…

  12. नेहा जी ,बहन की शादी में भी एक अलग तरह का सुख और आनंद है.. हर भाई अपने बहन की शादी में उतना ही उत्साहित रहता है जितना एक बहन अपने भाई की शादी में…वो बात सही है की भाई की शादी में, दुल्हल घर में आती है और बहन की शादी में बहन दुसरे घर जाती है लेकिन खुशियाँ दोनों में एक सी रहती हैं…ये मेरा मानना है…शुक्रिया आपका अपने टिपण्णी दी..

  13. hello abhishek
    divya ke facebook link se yahan ka pta mila hume.

    apne bde khubsurti k sath apni baheno k bare me btaya hai.

    bht achha lga padh ke.ap khushnaseeb hain apko aisi bahene mili aur apki bahene khushnaseb hain ki apke jaisa bhai unhe mila

    🙂

    Anjali

  14. सुबह-सुबह आपके भाव पढ़े…… बहुत अच्छा लगा ,किस्मत वालों को ही इतनी प्यारी बहन और बहनों को भाई मिलते हैं …..आप लोगों का स्नेह बंधन ताउम्र बना रहे!
    सच में बेहद emotional post है ….

  15. प्रिय अभि,
    बहुत अच्छा लगा यह पोस्ट पढ़ कर…। भाई-बहनों के साथ बिताए गए ये आपसी पल एक धरोहर की तरह होते हैं, बहुत सम्हाल कर रखना इन्हें…।
    रिश्तों के फूल
    सजा कर रखना
    मुरझाए न ।

    प्रियंका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नयी प्रकाशित पोस्ट और आलेखों को ईमेल के द्वारा प्राप्त करें