किस्सा जूतों का

Friday, December 29, 2017
नोट्स फ्रॉम डायरी  - २९ नवम्बर २०१७  आज बड़े दिन बाद नए जूते लिए.. जूतों के मामले में मैं बाकी लोगों से थोडा आलसी किस्म का हूँ. जब तक ...

ट्रेन नोट्स - अयांश बाबु की शैतानियों के चिट्ठे

Saturday, December 23, 2017
मेरे भांजे अयांश बाबू की बदमाशियां दिन ब दिन बढ़ते जा रही है. जैसे जैसे ये बड़ा होते जा रहा है, वैसे वैसे इसकी बदमाशियां भी बड़ी होती जा रही ह...
Powered by Blogger.