ऑफिस का एक दिन - CRYING BABY ALWAYS GETS THE MILK FIRST :P

ऑफिस में कभी कभी झटके तो मिलते ही रहते हैं सब को..कभी जोर के झटके तो कभी हलके झटके...ऐसा ही कुछ हुआ हमारे साथ आज सुबह..जोर का झटका था जो की कुछ ज्यादा ही जोर से लगा ;)

कल शाम ऑफिस से थोड़ा पहले निकलने का प्लान बनाया, कुछ इम्पॉर्टन्ट पपेर्स, डायरी बैग में रख ही रहा था की फोन आया डेस्क पे..रैचेल मैडम का..उन्होंने कहा "अभिषेक टूमॉरो यू हैव अ ट्रेनिग सेशन इन दी मोर्निंग...मिस्टर जोर्ज  वुड बी टेकिंग ए ट्रेनिग क्लास...ऑल दी बिजनेस मैनेजेर, सीनिअर मैनेजेर, डिविजनल मैनेजेर वुड बी प्रेज़न्ट...टाइमिंग ईज ६:४५ इन दी मोर्निंग...रिपोर्टिंग टाइम इन ऑफिस ईज ६:३०ए.एम ..." चौंकते हुए मैंने पुछा-  मैडम ६:३० इन दी मोर्निंग?? उधर से रैचेल मैडम का जवाब आया "या..यू गोट एनी प्रोब्लम विद दैट??जोर्ज सर सेड आइदर यू कम टूमॉरो मोर्निंग एट ६:३० ऑर यू डोन्ट नीड टू कम ऑफिस एट ऑल..." मैंने भी बुझे मन से कहा "ओके मैम...नो इशूज.." 
अभी ये सब सुनने के बाद उदास चेहरा लिए ऑफिस से निकल ही रहा था तो सोचा एक बार अपने डिविजनल मैनेजेर से पूछ लूँ आखिर कल होने क्या वाला है?.. उनसे पुछा तो उन्होंने कहा की " इट वुड बी लाईक ए ट्रेनिंग सेसन बट कम प्रीपेर्ड...जोर्ज सर मेय आस्क फ्यू क्वेस्चन...नथिंग मोर दैन दैट.." मैंने भी सोचा, अरे यार क्या पूछेगा...सब तो पते है हमको...देख लेंगे जो भी होगा कल.. यही सोच के वापस घर आ गया और रात में भी कल जल्दी ही सो गया..सुबह ऑफिस जो जाना था...

सुबह ऑफिस भी टाइम पे पंहुचा और आराम से अपने डेस्क पे जाकर बैठ गया...कल मैंने ब्रिटिश पाउंड और  जेपेनीज़ येन पे पैसे लगाये थे...तो सुबह देखा की दोनों में लगभग 2000$ का प्रोफिट हुआ है, खुशी खुशी दोनों ट्रेड  लिक्विडेट किया..मन ही मन सोच रहा था चलो, कल स्विस फ्रैंक पे मुनाफा हुआ और आज ये दोनों करन्सी पे.कुल मिलाकर पिछले 24 घंटों में 15000$ का प्रोफिट हुआ........अरे भाई प्रोफिट का नाम सुन चौंकिये मत, ट्रेड में और बेहतर होने के लिए हम लोग को कंपनी के तरफ से डेमो अकाउंट दिया जाता है..ये प्रोफिट उसी डेमो अकाउंट से आया है, प्रोफिट का कोई पैसा वैसा हमें मिलने वाला नहीं है... :P :P 

खैर,जब देखा की 6:30 हो गए और सब सेमिनार रूम के तरफ जा रहे हैं तो मैं भी अपना डेमो अकाउंट और ट्रेंड विंडो क्लोज़ कर के चल दिया सेमिनार रूम के तरफ..एक अच्छी कोने वाली सीट देख के बैठ गया...मैंने सोचा की ये जोर्ज सर का क्लास है तो कम से कम ३-४ घंटे तो चलेगा ही..यही सोच के आराम से कोने वाली सीट पे बैठ गया..सोचा अगर बोर हुआ तो आराम से कोने में सोता रहूँगा ;) 55 मेम्बर हैं, किसी को क्या पता चलने वाला की कौन सो रहा है कौन सेमिनार सुन रहा है :P 
जितने भी लोग मौजूद थे सब सुबह सुबह बिलकुल फ्रेश, खुश और पूर्ण रूप से उत्साहित दिख रहे थे.जोर्ज सर के रूम में आने के पहले सब बातें कर रहे थे..कोई कह रहा था की अरे यार ये जोर्ज सर आज टेक्निकल अनैलिसिस या मूविंग ऐव्रज क्रोसओवर या फिर ऐलगैटर के बारे में कुछ नया बताएँगे...तो कुछ ने कहा अरे नहीं यार कंपनी के नए नए जो ऑफिस खुल रहे हैं उसके बारे में बताएँगे और कुछ नए फोरेक्स रुल के बारे में..सब कुछ न कुछ अंदाज़ा लगाने में बीजी थे.मैं चुप चाप केवल सब की बात सुन रहा था..


वो कहते हैं न की चेहरे की मुस्कान जाते वक्त नहीं लगता है...ऐसा ही कुछ हुआ जब जोर्ज सर का एंट्री हुआ सेमिनार रूम में....जोर्ज सर ने आते ही हलके अंदाज़ में जब ये कहा..."Good Morning friends, I m sorry to call you all in morning at 6.. but I was thinking to give you some tips, training as to how you can get potential business , as how you can enhance your knowledge in Forex...But I was wondering can I postpond this Training class  and reschedule this on sunday? what you say?  इतना सुनते ही सारे लोगों का तो चेहरा एकदम से खिल गया...जो कुछ ओवरस्मार्ट लोग आगे वाले कुर्सी पे बैठे हुए थे वो कहाँ इंतज़ार करने वाले थे..तुरंत कह बैठे ,की सर कोई बात नहीं, आपको जब टाइम मिले आप तब ट्रेनिंग सेसन करवा दें..हम तो सन्डे को भी ट्रेनिंग में आने के लिए तैयार हैं..आखिर काम की बातें सीखने में, समझने में कैसी परेशानी............मुस्कुराते हुए  हुए जोर्ज सर  ने कहा "Oh great.. thanks a lot...You know I was thinking that you all are working here and you all are much aware of the business activities as well as the forex market..so why don't you tell me what our company is? what exactly forex is? and how it operates and all such questions..I would like to hear from you..your viewpoint..I know everyone would be having different perspective...I want to know views of each and every ppl seating here..I want you all to give a small presentation here about details of our business and the foreign exchange market...And you will be glad to know that for this session two top-most Exec. Mr.Somnath and Mr.Gajendra would be also joining us in short while.......So lets start, let me see who want to give first presentation...? 
इधर जैसे ही जोर्ज सर ने अपनी बात खत्म की, वैसे ही सेमिनार हॉल में एक सन्नाटा छा गया, एक गज़ब की ख़ामोशी, ..सब एक दूसरे का चेहरा देखने लगे..ऐसा लग रहा था की जैसे सब को सांप सूंघ गया हो...हक्के बक्के सब, पसीने छूटने लगे सब के ;) आखिर कंपनी के 2 टॉप इग्ज़ेक्यटिव और ओवर्सीज़ कन्सल्टन्ट एंड जेनरल मैनेजेर मिस्टर जोर्ज  मौजूद हैं कमरे में, ऐसे में किसी की हिम्मत हो नहीं रही थी की स्टेज पे जाए और प्रेज़न्टेशन दे.....

जब 1-2 मिनट तक किसी ने पहल नहीं की तो मेरे डिविजनल मैनेजेर ने मुझे इशारा किया और स्टेज पे जाने के लिए कहा.....अब मैं बाकी सब से अलग थोड़े ही हूँ...मैं भी तो अंदर ही अंदर डर रहा था की पता नहीं कैसा प्रेज़न्टेशन जाएगा,क्या बोलूँगा....तय्यारी भी नहीं है कुछ...यही सब सोच रहा था की मेरे मैनेजर ने इशारे से मुझे स्टेज पे जाने के लिए कहा.....मैंने मन ही मन कहा, अबे सूली पे चढ़ाने के लिए मैं ही मिला था क्या तुझे?? खैर, स्टेज के तरफ गया और बोलना शुरू किया.. Hi, Good Morning..Our company roches.......बीच में ही रोकते हुए मिस्टर जोर्ज ने कहा "मिस्टर अभिषेक फर्स्ट इन्ट्रोडूस यॉर्सेल्फ देन प्रोसीड विद कंपनी प्रोफाइल" , मैंने भी गलती मानते हुए कहा "सॉरी सर...आई विल स्टार्ट अगेन.." अब बोलने का फ्लो एक बार टूट जाए तो फिर कहाँ आसानी से बनता है ;) ऐसा ही कुछ हुआ मेरे साथ भी , पहले ही लाइन में जो फ्लो गया वो अंत तक नहीं आया...और खतरनाक रूप से आवाज़ भी ब्रेक हो रही थी..खैर जैसे तैसे खत्म किया प्रेज़न्टेशन ..

जब प्रेज़न्टेशन खत्म हुआ तो मैं अंदर ही अंदर सोच रहा था की क्या यार, इतना बेकार प्रेज़न्टेशन ...हद है, थोड़ा सा कल रात प्रैक्टिस ही कर लेता तो क्या बिगड़ता..खैर जैसे तैसे प्रेज़न्टेशन खत्म कर के और जोर्ज सर के सारे सवालों का जवाब देते हुए जैसे ही अपने सीट पे बैठने जा ही रहा था की पीछे से जोर्ज सर ने कहा "अभिषेक आई वांट यू टू सीट इन फ्रंट रो..." मैंने देखा मिस रेखा के बगल वाली सीट खाली है तो वहां जा कर बैठ गया....जैसे ही बैठा सीट पे वैसे ही रेखा ने मेरे कान में कहा "यू डिड ए गुड जॉब अभिषेक...वाट आई विल डू आई डोन्ट नो मैन...आई एम डेड ...ओह गाड हेल्प मी प्लीज ..."  ऐसे ही पता नहीं क्या क्या बडबडा रही थी वो :P ये हालात उसकी अकेले की नहीं, सभी की थी...

जब मैं प्रेज़न्टेशन दे रहा था तो सबकी तरफ देख ये साफ़ पता चल रहा था की सब कितने घबराये हुए हैं...चाहे बिजनेस मैनेजेर हों या सीनिअर बिजनेस मैनेजेर, या को-डिविजनल मैनेजेर..सभी की हालात एक सी थी ;) सब मेरे तरफ ऐसे सहानभूति से देख रहे थे की जैसे मैं हलाल होने जा रहा हूँ... ......मेरी आवाज़ ब्रेक होते देख ही सब के पसीने छुट रहे थे, शायद इसलिए भी की इनमे से बहुत ने मुझे पहले प्रेज़न्टेशन देते हुए देखा था और शायद ये मेरा थोड़ा बुरा प्रेज़न्टेशन जा रहा था(हालांकि टॉप इग्ज़ेक्यटिव के सामने इससे पहले मैंने कभी प्रेज़न्टेश नहीं दिया) ..सब सोच रहे होंगे की इसका प्रेज़न्टेशन ऐसा जा रहा है तो हमारा क्या होगा :P  मिस रेखा, मिस स्तुति और दिवाकर तो मेरी हर बात पे ऐसे हामी भर रहे थे की जैसे उन्हें सब समझ में आ रहा हो ;) सबके चेहरे पे एक नकली मुस्कान तक नहीं बन पा रही थी ;) ऐसी थी सब की हालात...

मेरे बाद बारी आई मिस्टर सुनील की..वो मेरे से काफी सीनिअर हैं , उम्र में भी और पद में भी..मुझे रत्ती भर भी ये नहीं लगा की उनकी आवाज़ लगभग चोक हो जायेगी..शायद वो इस प्रेज़न्टेशन के लिए तैयार बिलकुल नहीं थे, लेकिन कसम से उनकी तो ज़बान ही रुक गयी...बेचारे सही से बोल ही नहीं पा रहे थे, जबकि इंग्लिश बोलने में वो मेरे से कहीं ज्यादा फ्लूअन्ट हैं.....इन्ही की तरह और बाकी लगभग सभी की ऐसी ही हालात रही...जब मैंने सेल्फ-ऐनलाइज़ किया तो पाया की मेरे से बेहतर बस 5 लोगों ने ही प्रेज़न्टेशन दिया...अब इस बात पे खुश होयुं या फिर दुखी समझ नहीं आ रहा था, जो लोग स्टेज पे जाके बिलकुल ही नर्वस हो गए, उनके लिए बुरा भी लगा...आखिर 55 लोगों के सामने बोलना उतना आसान भी नहीं और वो भी उस वक्त जब आपके कंपनी के तीन सबसे बड़े इग्ज़ेक्यटिव मौजूद हों....

जब  सब की प्रेज़न्टेशन खत्म हो गयी, तो मिस्टर जोर्ज ने कहा...."आप लोगों को पता है क्यों मैंने एक के बाद एक के नाम नहीं बुलाए प्रेज़न्टेशन देने के लिए? क्यों मैंने कहा की जो भी पहले देना चाहे प्रेज़न्टेशन आकार दे सकता है??? वो इसलिए की मैं ये देखना चाह रहा था की आपमें से कितने लोगों के पास सही में हिम्मत है आगे बढ़ने की और इनिशीअटिव लेने की.." अपनी बात तो आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा   

"I am really impressed by Mr.Abhishek, I really appreciate.. he gave the first presentation today....I can see his courage, confidence.....Today I wasnt looking for the content of presentation...whatever you were explaining was immaterial to me...I was just looking for people who can take initiative...people who are strong....
So as they say, CRYING BABY ALWAYS GETS THE MILK FIRST..In this case Mr.Abhishek,Mr.Sunil,Mr.Raghu,Mr.Manish and Mr.Sandeep would be getting my personal assistance and attention..and I will be meeting with all of you in my cabin maybe this Monday or Tuesday so that we can discuss more things together......
Rest of you, better luck next time, and be prepared for this kind of activities to take place in office anyday, any time without prior notice and I want some other face apart from these 5 to take initiative next time.....
  
अब ये बात सुन के दिल में थोड़ी राहत आई, और अच्छा भी लगा...नहीं तो मैं बस इसी सोच में मरा जा रहा था की मेरा प्रेज़न्टेशन इतना खराब क्यों गया..आज ऑफिस में सबसे लंबा समय भी बिताया, जो सुबह के 6:30 में ऑफिस पंहुचा था, तो वापस ऑफिस से निकला शाम के 5 बजे ;) ...पुरे साढ़े इग्यारह घंटे ऑफिस में :P खैर, अच्छा अनुभव था, खट्टा-मीठा और चटपटा अनुभव....;)

लेकिन ये तो कहूँगा ही की आज सुबह सभी को जोर का झटका बहुत जोर से लगा ;)  

15 comments:

  1. इसको कहते हैं बिहारी कॉनफिडेंस… एगो बात हमरो नोट कर लो..हमरा केमिस्ट्री का किताब का पहिला पन्ना पर लिखा था... हम अपना फेस बुक पर भी लिखे हैं:
    A man would do nothing, if he waited to do it so well, that no one would find fault with what he has done…
    अगर तुम एही इंतज़ार में रहोगे कि हम एतना बढिया काम करें कि कोनो गलती नहीं निकाले, त तुम जिन्नगी भर कोई का नहीं कर सकते हो..एगो अऊर लेसन हमको हमरा फोरेक्स गुरू दिया था कि अपना कोनो पोजिसन के साथ हमेसा मुसलमान के जईसा ब्यवहार करो... जैसे बकरीद के पहिले बकरा पालकर उसको कुर्बान कर दिया जाता है, प्यार नहीं..ओइसहीं अपना पोजिसन के साथ प्रॉफिट लेकर काट दो अऊर हमेसा स्टॉप लॉस का मर्यादा याद रखो… ज्ञान खतम! प्रेजेंटेसन का बधाई!!

    ReplyDelete
  2. Hats off to you Abhishek. अच्छा प्रजेंटेशन देने के लिए भी और इतना शानदार लिखने के लिए भी. :)
    वैसे एक दफे हम भी प्रजेंटेशन दिए थे, अपने CEO के सामने(LDP और Internet Radio पर) और वो भी तब जब हम फ्रेसर थे.. वो वाकया याद आ गया..

    ReplyDelete
  3. Really proud of you Abhishek. Very well done. Sky is the Limit.

    ReplyDelete
  4. wow, Congrats !!
    मुझे तो तुम्हारी लेखनी पसंद आई ...एक एक लाइन कितनी अच्छी तरह लिखी है , हर किसी को तुम पर गर्व होगा ...

    बार बार उन लोगों को सर बोलने का कुछ समझ नहीं आया ....भाई ये जुनियर सीनियर का डर कैसा ...आप तो बुद्धि का सागर हो !!

    चलो good luck buddy !!

    ReplyDelete
  5. Congrats buddy...

    did good job...

    impressed top executives ...:)

    ReplyDelete
  6. @चाचा...एकदम सही बात कहे हैं आप :)

    और वो स्टॉप लॉस वाली बात तो हमेशा याद रहती है, ;) हम जब भी ट्रेड विंडो क्लोज करते हैं तो स्टॉप/लिमिट प्राईस दे कर ही ट्रेड विंडो क्लोज करते हैं....हमको मैनेजेर ने एक बात बताई थी, की ट्रेड ..If you trade with discipline and without being greedy you will make great profits :) बस सही इंट्री और सही एक्जिट पॉइंट देखना रहता है, :)

    @प्रशान्त,स्तुति..
    अरे यार प्रजेंटेशन बिलकुल अच्छा नहीं गया था..वो तो अंतिम में आकार कुछ चैन मिला :)

    @राम जी, विवेक जी,
    शुक्रिया सर :)

    ReplyDelete
  7. @राम जी,
    वो असल में ऐसी आदत पड़ गयी हैं उनको जोर्ज सर कहने की, ये आदत बस उन्ही के लिए है, और किसी के लिए नहीं :)

    ReplyDelete
  8. बढ़िया प्रेजेंटेशन

    ReplyDelete
  9. बधाई हो बाबु :) हमे तो ऎसे मौको पर साप सूघ जाता है :) अब सच है तो है..

    ReplyDelete
  10. कन्टेन्ट से अधिक कान्फिडेन्स।

    ReplyDelete
  11. बधाई...इतने अच्छे प्रेजेंटेशन के लिए और इतनी अच्छी तरह...उसका विवरण लिखने के लिए...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  12. badhai, bandhu, pasand aaya.

    ReplyDelete
  13. Lovelyyy...i m proud of u bhai...as always...:) :)

    ReplyDelete

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया

Powered by Blogger.