दोस्ती क्या है?

दोस्ती क्या है?मेरी नज़र...

आज  मेरे नज़र से देखिये दोस्त क्या हैं? दोस्त का मतलब मेरे लिए क्या है? क्या दोस्ती है मेरी जिंदगी में...

ये कोई कविता तो नहीं लेकीन मेरे कुछ करीबी मित्रों के नाम हैं...मैंने कोशिश तो बहुत की, की एक अच्छी कविता बने लेकीन शायद सफल नहीं रहा  :) 
आज सुबह सुबह ये ऐसे ही रैन्डम्ली लिखा...सोचा ब्लॉग पे पोस्ट कर दूँ... :)

दोस्ती नज़्म भी है..दोस्ती शेर भी..दोस्ती गीत भी है...
दोस्ती प्यार की इन्तहा भी है...
दोस्ती का नाम शिखा भी है,
दोस्ती का नाम दिव्या भी..
दोस्ती का नाम प्रभात भी  है,
दोस्ती का नाम अकरम भी...

दोस्ती तो एक एहसास है..
दोस्ती  दिल से निकली दुआ भी है...
दोस्ती का मतलब रवि भी है..
दोस्ती का अर्थ मती भी...
दोस्ती का नाम सुदीप भी है..
दोस्ती का मतलब मुराद भी..

दोस्ती एक प्रार्थना है..
दोस्ती  एक शक्ति..
दोस्ती  का मतलब प्रशांत भी है
दोस्ती  का अर्थ समित भी..
दोस्ती  का नाम रिया भी है
दोस्ती  का नाम निशांत भी..

दोस्ती  बहुत अनमोल है..
दोस्ती तो एक रौशनी, एक उम्मीद है..
दोस्ती का नाम शेखर भी है
दोस्ती का मतलब विशाल भी 
दोस्ती का अर्थ राहुल भी है 
और दोस्ती का नाम आशीष भी

दोस्ती हमें लिखने से है
दोस्ती हमें पढने से है..
दोस्ती का नाम स्तुति भी
दोस्ती का मतलब उमा भी
दोस्ती का अर्थ पंकज भी है
दोस्ती का नाम स्नेहा भी..


ये दोस्ती तो मेरे लिए नायब है,..
इनकी दोस्ती से ही तो है जिंदगी हमारी..




14 comments:

  1. वाह जी तुम तो बडे प्रायोगिक कवि हो.. अच्छे अच्छे प्रयोग करते रहते हो.. शानदार कविता और हमरा मोस्ट वान्टेड नाम अपनी हिट लिस्ट मे रखने के लिये एक बहुत बडा वाला धन्यवाद ;)

    ReplyDelete
  2. shaandaar kavita dosti zindabaad

    ReplyDelete
  3. बहुत प्यारी ...और दोस्तों के प्रति समर्पित ये रचना ......बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. दोस्ती का पूरा वर्णन कर दिया ..और वो भी सुन्दर शब्दों से सजी सुन्दर कविता के रूप में ....अधिक नहीं कहूँगा ..बस यही कहूँगा की आज से आपके दोस्तों में एक नाम और बढ़ गया , हमारा ,,,,अगली दोस्ती के रचना में इसे ना भूलना....बहुत अच्छा लिखा है मित्र ...आपकी दोस्ती और सभी दोस्त सलामत रहे ..यही दुआ है हमारी ....शुक्रिया अच्छी प्रस्तुति के लिए
    http://athaah.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. और हां सपनो के पीछे मत भागो .....एक जगह सुस्ताकर बैठ जाओ .....आपके सपने खुद आपको ढूंढ लेंगे ...बस थोड़ा सा कुछ करते रहो जो मन को संतोष दे

    ReplyDelete
  6. oh bahut cute poem hai.
    sabhi ke naam hain... mera b naam hai... :)

    thnks thnks thnks :)

    ReplyDelete
  7. bahut sahee likha hai aapne. dosti ka rishta toh dil se he hai. its not important ki aap ek dusre se mile hai ya nhi....!!

    mujhe toh yeh ek kavita se he lag rhe thii.. bahut accha . and thnx :)

    ReplyDelete
  8. hey buddy thankz a lot dude :)

    bahut achi kabita hai :)

    ReplyDelete
  9. badhiya! sache dost anmol hote hai!
    saare shabd kitne umda hai dosti ka varnan karne ke liye!

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. बहुत अची कबिता है भाई..........

    ReplyDelete
  12. lovely..

    so cute..

    bahut achi lagi.. n mera b naam hai n tht too sabse pehle :) :)

    thanks for that :)

    ReplyDelete
  13. Heyy bro....naamo se saji kavita ! ;)
    Osumm ! :)

    aisa hi kuch atee k profile mei dekha tha....jaha usne khud ko yuhi explain kiya tha.. !

    Vryy vryy nice :)

    ReplyDelete
  14. अफ़सोस...तब हम न थे...|
    :(

    ReplyDelete

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया

Powered by Blogger.